blogid : 3738 postid : 1119069

एड्स से बचाव के लिए अफ्रीका में किया जाता था किशोरियों से रेप! जानें एड्स से जुड़े ऐसे ही 17 रोचक तथ्य

Posted On: 1 Dec, 2015 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कल विश्व एड्स दिवस है. करीब 2 दो दशकों में एचआईवी वायरस और एड्स के प्रति लोगों में जागरुकता तेजी से बढ़ी है. जहां पहले लोग एड्स का नाम सुनते ही शर्म और संकोच से नजरें चुराने लगते थे वहीं आज लोग इसे रोग की दृष्टि से देखते हुए इस विषय पर खुलकर चर्चा करने लगे हैं. लेकिन फिर भी आधुनिक युग में भी अधिकतर लोग ऐसे हैं जिन्हें एड्स से जुड़े कई चौंका देने वाले पहलुओं की जानकारी नहीं है. आइए हम आपको बताते हैं एचआईवी और एड्स से जुड़े कुछ रोचक तथ्य.


aids

Read : रेप से बचने के लिए लड़की ने अपनाया ये हथकंडा!

1. दुनिया में सबसे ज्यादा एड्स के मरीज साउथ अफ्रीका में पाए जाते हैं. यहां पर करीब 5.9 लाख लोग एचआईवी के शिकार हैं. जबकि दूसरा स्थान साउथ और साउथ ईस्ट एशिया का है जहां कुल जनसंख्या में से 12% लोग इस घातक बीमारी से पीड़ित है. भारत में करीब 2.4 लाख लोग एचआईवी और एड्स की समस्या से जूझ रहे हैं.


2. नए-नए फैशन से कदम से कदम मिलाकर चलने के लिए अक्सर युवा अपने शरीर के विभिन्न हिस्सों पर टैटू, पियर्सिंग करवाते हैं लेकिन कई अध्ययनों से ये बात साबित हो चुकी है कि इससे शरीर में एचआईवी वायरस फैलने का खतरा 85 फीसदी से तक बढ़ जाता है.


3. अफ्रीका में लोगों के बीच एक अफवाह फैल गई थी. जिसके अंतर्गत वर्जिन होने की वजह से एड्स के फैलने का मुख्य कारण माना जाता था. इसलिए वहां की कुंवारी लड़कियों, छोटी लड़कियों और यहां तक की छोटे बच्चों का रेप किया जाता था. जिससे पूरे देश को इस बीमारी से छुटकारा मिल सके.


4. साल 2001 में स्टीफन केली नाम के एक शख्स को जानबूझकर एड्स फैलाने के आरोप में अदालती प्रक्रिया से गुजरना पड़ा. दरअसल खुद एड्स से पीड़ित होने पर भी उसने अपनी पत्नी के साथ असुरक्षित यौन संबंध बनाए. वो देखना चाहता था कि उसके ऐसा करने से क्या सच में एचआईवी का वायरस फैलता है कि नहीं.


5. HIV विषाणु कमरे के तापमान ( 25 डिग्री C) पर भी सूखे खून में 10-15 दिन तक जीवित रह सकते हैं. जैसे के उपयोग किए हुए टीके या सुई में.


6. बिल्लियां मनुष्य की बहुत ही अच्छी दोस्त हैं. इन्हें भी एड्स के समान ही एक बीमारी होती है, जिसे एफआईवी कहते हैं. एचआईवी और एफआईवी में यह समानता है कि इनमें इम्यून सिस्टम कमजोर पड़ जाता है.


7. स्विट्जरलैंड में ऐसी धारणा है कि अगर वहां कोई लड़की मरती है तो 80% चांस है कि वह एड्स से मरी होगी. HIV विषाणु 60 डिग्री सेल्सियस से ऊपर तापमान होने पर मारे जाते है.


Read : ‘तुमने मेरी कार ओवरटेक की, अब मैं तुम्हारा करूंगा रेप’


8. पूरी दुनिया में हर दिन 900 नए बच्चे AIDS के शिकार हो रहे हैं.


9. वर्ल्ड बैंक की रिपोर्ट के अनुसार 1995 से 2015 के बीच सिर्फ़ कंडोम की वजह से 30 लाख से अधिक एड्स के मामले नहीं पैदा हो सके.


10. एड्स पर बनी पहली हॉलीवुड फिल्म का नाम ‘एंड द बैंड प्लेड ऑन’ था. जिस पर शुरुआत में काफी विवाद मचा था. वहीं लोगों में इस फिल्म को लेकर बेहद उत्सुकता थी.


11. एड्स अब तक सबसे ज्यादा अध्ययन की जाने वाली बीमारी है.


12. भारत में एड्स का पहला मामला 1986 में चेन्नई में सामने आया था. विदेशी टूरिस्टों के संपर्क में आने और सही सुरक्षा ना बरतने से इस महिला को एड्स हुआ. बता दें कि इस मामले के एक साल के अंदर भारत में एड्स से जुड़े 135 अन्य मामले सामने आए थे.


13. अफ्रीकी देश बोत्सवाना में एड्स के चलते लोगों की उम्र 65 साल से 35 साल पर आ गई है.


14. एड्स का पहला मामला 1959 में अफ्रीकी देश कॉंगो में सामने आया था, जब एक व्यक्ति की मौत हो गई. उसके खून की जांच की गई तो पता चला कि उसे एड्स था.


15. AIDS इतनी खतरनाक है कि अब तक इससे 2.50 करोड़ लोग मारे गए हैं.


16. एड्स की बीमारी की वजहों में से एक समलैंगिक सम्बन्ध भी है.


17. ऐसा कहा जाता है कि एड्स की शुरुआत में लोग बहुत से भ्रम की स्थिति का शिकार हो गए थे जिसमें मानव की लार में एचआईवी के वायरस फैलने के सन्देह में लोगों ने अपने परिवार के साथ खाना-पीना बन्द कर दिया था…Next



Read more :

ऐसा क्या था सड़क पर लगे उस विज्ञापन में जिसे हटाने पुलिस को आना पड़ा

इस 2 मिनट के वीडियो को देखकर आप भी उस औरत का दर्द समझ जाएंगे जो कभी ‘मां’ नहीं बन सकती

भारत की इन जगहों पर परिवारवाले ही लड़कियों को वेश्यावृत्ति के दलदल में ढकेलते हैं





Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran