blogid : 3738 postid : 1978

इनमें लाखों दर्शकों ने देखा है अपनी मां का रूप

Posted On: 4 Jan, 2015 मस्ती मालगाड़ी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

मां दुनिया की सबसे अनमोल धरोहर है. मां जहां भी होती है खुशियों से हमारी झोली भर ही देती है. जब जीवन के हर क्षेत्र में मां का स्थान इतना अहम है तो भला हमारा हिन्दी सिनेमा इससे कैसे वंचित रह सकता था. हिन्दी सिनेमा में भी ऐसी कई अभिनेत्रियां हैं जिन्होंने मां के किरदार को सिनेमा में अहम बनाया है. “मेरे पास पास मां है” जैसे डायलॉग ऐसे ही हिन्दी सिनेमा के सबसे हिट डायलॉग नहीं बने हैं. हिन्दी सिनेमा में जब भी मां के किरदार को सशक्त करने की बात आती है तो सबसे पहला नाम निरुपा रॉय का आता है जिन्होंने अपनी बेमिसाल अदायगी से मां के किरदार को हिन्दी सिनेमा में टॉप पर पहुंचाया.


nirupa



आज निरुपा रॉय तो हमारे पास नहीं हैं लेकिन उनकी यादें और फिल्में आज भी फिल्मों के रूप में जिंदा हैं. आज उनकी जयंती है तो चलिए जानते हैं उनसे जुड़ी कुछ विशेष बातें.


Read:  Nirupa Roy :अमिताभ की पर्दे की मां हैं यह


ऐसे आईं थी फिल्मी दुनिया में


निरुपा रॉय का जन्म 4 जनवरी, 1931 को गुजरात के बलसाड में एक मध्यमवर्गीय गुजराती परिवार में हुआ था. उनके बचपन का नाम कोकिला बेन था. निरुपा रॉय ने चौथी तक शिक्षा प्राप्त की. वह एक बेहद निम्न-मध्यमवर्गीय परिवार से थीं. 15 साल की उम्र में ही निरुपा रॉय की शादी कमल राय से हो गई जो एक सरकारी कर्मचारी थे.



nirupa roy old



फिल्मों में उनकी एंट्री बड़े ही निराले ढंग से हुई. दरअसल गुजराती अखबार के एक विज्ञापन की वजह से उन्हें फिल्मों में आने का मौका मिला. विज्ञापन अभिनेत्रियों की खोज के लिए था. उन्होंने विज्ञापन का जवाब दिया और गुजराती फिल्म “रनकदेवी” के लिए उन्हें चुन लिया गया. यह फिल्म साल 1946 में रिलीज हुई. इसी साल उन्होंने हिन्दी फिल्म “अमर राज” भी की. 1953 में उनकी हिट फिल्म “दो बीघा जमीन” आई. इस फिल्म ने उन्हें हिन्दी सिनेमा की हिट हिरोइन के रूप में पहचान दी.


Read: ये हैं बॉलीवुड के बवाली बंगले! जानिए कौन हैं इनके मालिक


हालांकि 1940 और 1950 के दशक में उन्होंने कई धार्मिक फिल्में कीं जिसकी वजह से लोग उन्हें सम्मान की दृष्टि से देखते थे. फिल्मी पर्दे पर देवी मां का किरदार निभाने के कारण असल जिंदगी में भी उन्हें पर्दे के किरदार से जोड़ कर देखते थे. इसके बाद निरुपा रॉय अधिकतर अभिनेताओं की मां के रोल में नजर आने लगीं और यहीं से उनकी एक विशेष छवि बनी.



nirupa roy



निरुपा राय ने भी मां की भूमिका को निभाकर एक अलग अध्याय रचा. वे अमिताभ बच्चन के साथ अधिक फिल्में करने की वजह से उनकी मां के रूप में आज भी याद की जाती हैं. “दीवार” में उनकी भूमिका वाकई गजब थी. मां बेटे की यह जोड़ी इसके बाद जब भी पर्दे पर आई लोगों ने उन्हें खूब प्यार दिया. रोटी, अनजाना, खून पसीना, सुहाग, इंकलाब, मुकद्दर का सिकंदर, मर्द आदि में उनकी भूमिका दमदार थी. बॉलीवुड में फिल्मी मां का किरदार निभाती निरुपा को असल जिंदगी में भी सुपरस्टार अमिताभ बच्चन ने मां का दर्जा दे रखा था. वे हर सुख-दुख में अमिताभ निरुपा रॉय का साथ देते नजर आए. निरुपा रॉय को आज भी हिन्दी सिनेमा की बेहतरीन अदाकारा माना जाता है.


Read: आजकल फिल्मों से कम विवादों से ज्यादा चर्चा बटोर रहे हैं ये फिल्ममेकर


निरुपा रॉय को मिले पुरस्कार


निरुपा रॉय को तीन बार सर्वश्रेष्ठ सहायक अभिनेत्री का फिल्म फेयर पुरस्कार दिया गया. सबसे पहले उन्हें 1956 की फिल्म “मुनीम जी” के लिए यह पुरस्कार दिया गया जिसमें निरुपा रॉय देवानंद की मां की भूमिका में थीं. इसके बाद उन्हें साल 1962 की फिल्म “छाया” के लिए यह पुरस्कार दिया गया था. इसके बाद उन्हें फिल्म “शहनाई”  के लिए साल 1965 में पुरस्कृत किया गया था.


हिन्दी सिनेमा में मां के किरदार को जीवंत करने वाली इस महान अभिनेत्री की 13 अक्टूबर, 2004 को मौत हो गई. उन्हें आज भी बॉलिवुड की सबसे सर्वश्रेष्ठ मां माना जाता है.


Read more:

ये वह फिल्म थी जहां से हिंदी फिल्म में किसिंग सीन की शुरुआत हुई


इन बॉलिवुड अभिनेत्रियों ने तोड़े परिवार, जानिए किन चर्चित अभिनेत्रियों की शादियां रहीं विवादित


शादी से पहले बच्चे की परवरिश करना आसान नहीं है..लेकिन बॉलिवुड सिलेब्स की बात ही कुछ और है…!!




Tags:                       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (4 votes, average: 4.75 out of 5)
Loading ... Loading ...

576 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran