blogid : 3738 postid : 710692

इन्हें भी प्रधानमंत्री बनना है

Posted On: 1 Mar, 2014 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

बिहार में नीतीश कुमार सुधार और विकास के जनक माने जाते हैं. अपने कार्यकाल में जिस तरह से नीतीश कुमार ने बिहार को विकास के मार्ग पर मोड़ा वह काबिलेतारीफ है. यह वही बिहार था जहां से श्रमिकों का पलायन एक राष्ट्रीय समस्या भी बन गया था, जहां विकास के नाम पर घोटालों की लंबी लिस्ट मिलती थी. ऐसे बिहार को शाइनिंग बिहार का दर्जा दिलाने के लिए नीतीश कुमार ने सराहनीय कार्य किए, लेकिन हाल के दिनों में जितनी फजीहत नीतीश कुमार की हुई है उससे उनकी छवि को काफी नुकसान हुआ है.


फैसले थोपने वाले नेता

नीतीश के बारे में ऐसा माना जाता है कि वह पार्टी (जदयू) के अंदर मनमानी करते हैं. उन्हें जो अच्छा लगता है वह वही करते हैं, इसके लिए वह किसी से राय-मशवरा तक नहीं लेते. उनके अडियल फैसलों की वजह से ही आज जदयू के कई बड़े नेता और सांसद पार्टी से बाहर हो चुके हैं, जिसमें पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा सांसद शिवानंद तिवारी भी शामिल हैं.

इस बात से कोई इंकार नहीं कर सकता कि जदयू और भाजपा के बीच का गठबंधन नीतीश की राजनीतिक महात्वाकांक्षा की वजह से टूटा. अपनी इसी महात्वाकांक्षा को पूरा करने के लिए नीतीश आज कल तीसरे मोर्चे में सक्रिय दिखाई दे रहे हैं.


Read: कैसा महसूस होगा आपको जब हवा से बात होगी आपकी ?


nitish kumar 1बिहार को विशेष राज्य का दर्जा

वह नीतीश कुमार ही हैं जिन्होंने अपने मुख्यमंत्रीत्व काल में बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने का सबसे ज्यादा प्रयास किया. उन्होंने लगातार केंद्र पर दबाव भी ड़ाला. लोकसभा चुनाव नजदीक आते ही इस तरह की मांग फिर से उठाई जा रही है. जेदयू के अलावा      भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) ने भी बिहार को विशेष राज्य का दर्जा और विशेष पैकेज देने की मांग को लेकर केंद्र सरकार पर दबाव बना रही है.


नीतीश कुमार की उपलब्धियां

  1. नीतीश कुमार ने मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए बिहार में सूचना के अधिकार के इलेक्ट्रॉनिक संस्करण की शुरुआत की.
  2. उन्होंने मनरेगा के तहत ई-शक्ति कार्यक्रम की शुरुआत की, जिसके तहत फोन पर ही रोजगार से जुड़े समाचार उपलब्ध कराए जाते हैं.
  3. इनके कार्यकाल के दौरान बिहार में फैस्ट ट्रैक न्यायालयों के तहत पहले की अपेक्षा कहीं ज्यादा आपराधिक मामलों का निपटारा किया गया.
  4. नीतीश कुमार ने अपने कार्यकाल के दौरान प्रत्येक स्कूल जाने वाली लड़की को साइकिल उपलब्ध कराने की योजना भी शुरू की, जिसके परिणामस्वरूप ज्यादा से ज्यादा लड़कियों ने स्कूल जाना शुरू किया और पहले की अपेक्षा अधिक परिवारों ने भी अपनी बच्चियों को स्कूल से निकालना कम किया.
  5. मुफ्त दवाइयां, चिकित्सीय सेवाएं और किसानों को ऋण देने जैसी सेवाएं भी शुरू की गईं.
  6. पूर्व राष्ट्रपति अबुल कलाम और नीतीश कुमार की पहल के कारण नालंदा अंतरराष्ट्रीय यूनिवर्सिटी प्रोजेक्ट की शुरुआत हुई.
  7. रेल मंत्री रहते हुए उन्होंने रेल सेवा को सुचारु रूप से चलाने और टिकटों की बुकिंग को आसान बनाने के लिए इंटरनेट टिकट बुकिंग और तत्काल सेवा प्रारंभ की. इसके अलावा नितीश कुमार ने टिकट बुक कराने के लिए भी प्रचुर मात्रा में रेलवे टिकट काउंटर खुलवाए.
  8. ऐसा माना जाता है कि नीतीश कुमार के प्रयासों के द्वारा ही दिवालिया होती भारतीय रेल सेवा फिर से तीव्र गति से विकास करने लगी.

Read more:

भाजपा बगैर नीतीश कुमार कैसे सहेजेंगे जनाधार !!

नीतीश कुमार: मैं प्रधानमंत्री बनना चाहता हूं…….

नीतीश के वार पर भाजपा का पलटवार

Web Title : bihar chief minister nitish kumar political life



Tags:             

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran