blogid : 3738 postid : 682812

नंदा: बॉलीवुड की मासूम बुलबुल

Posted On: 8 Jan, 2014 Others,Special Days में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भोली सी सूरत तथा मासूम सी दिखने वाली हीरोइन नन्दा के नाम से शायद आज की नई पीढ़ी परिचित न हो लेकिन सत्तर और अस्सी के दशक में फिल्में देखने वाले उन्हें भूले नहीं होंगे. तब इनके खूबसूरती के चर्चे दूर-दूर तक थे. चेहरे के साथ उनकी आवाज में भोलापन, बड़ी-बड़ी आंखें, गुलाबी होंठ, ये सब नन्दा की विशेषताएं थीं, जो उन्हें अन्य अभिनेत्रियों से काफी अलग करती थीं. उनके जन्मदिन है. इस उपलक्ष्य पर हम उन्हें हार्दिक बधाई देते हैं.


nanda 1नन्दा का जीवन

8 जनवरी 1939 को महाराष्ट्र के एक व्यपारी परिवार में जन्मी नन्दा ने अपने फिल्मी सफर की शुरूआत एक बाल कलाकार के रूप में की थी. जब नन्दा छोटी बच्ची थी उनके पिता का निधन हो गया था, जिनसे उनके परिवार को आर्थिक समस्याओं का सामना करना पड़ा. अपने परिवार की सहायता करने के लिए नन्दा ने छोटी सी उम्र में ही फिल्मों में काम करना शुरू कर दिया था.


Read: राजनीतिक स्वार्थ से ही जन्म लेती हैं राष्ट्र विरोधी ताकतें !


नन्दा का फिल्मी कॅरियर

बचपन से ही मराठी फिल्मों में काम करने वाली नन्दा ने अपने फिल्मी कॅरियर की शुरुआत 1956 में आई फिल्म ‘तूफान और दिया’ से किया. बाद में उन्हें ‘भाभी’ ‘तीन देवियां’, ‘गुमनाम’, ‘नींद हमारी ख्वाब तुम्हारे’, ‘धरती कहे पुकार के’, ‘धूल का फूल’, ‘जब जब फूल खिले’, ‘छोटी बहन’, ‘द ट्रेन’, ‘जोरू का गुलाम’ आदि फिल्मों में काम करने का मौका मिला.

फिल्म ‘छोटी बहन’ में नन्दा मुख्य भूमिका में क्या आईं, लोग उन्हें छोटी बहन की ही छवि में देखने लगे. इसके बाद नन्दा ने खुद को बदलने की कोशिश की और ‘जब जब फूल खिले’ और ‘गुमनाम’ जैसी फिल्मों से अपनी एक ग्लैमरस छवि कायम की लेकिन लोग उन्हें ज्यादा दिनों तक इस रूप में देखना नहीं चाहते थे इसलिए उन्होंने दोबारा मासूमियत भरी अदाकारी की ओर रुख किया.


अभिनेता शशि कपूर के साथ जोड़ी

सहज और संवेदनशील अभिनय से दर्शकों का मन मोह लेने वाली नन्दा नें अभिनेता शशि कपूर के साथ आठ फिल्मों में काम किया है. इन फिल्मों में से ‘जब जब फूल खिले’ एकमात्र ऐसी फिल्म थी जिसे आज भी लोग देखकर पसंद करते हैं. नन्दा और शशि कपूर की जोड़ी को लोगों ने काफी पसंद किया. खुद नन्दा मानती हैं कि शशि कपूर उनके पसंदीदा अभिनेता है.


Read More:

सादगी और बेजोड़ अभिनय की पहचान – वहीदा रहमान

सशक्त अभिनय की पहचान आशा पारेख

दिलीप की अनारकली मधुबाला नहीं नरगिस थीं !!



Tags:           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran