blogid : 3738 postid : 664975

मानवाधिकार दिवस: इस दुनिया में कहां हैं मानव के अधिकार

Posted On: 10 Dec, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

अरब और पश्चिम एशिया के कई देशों में बदलाव की आंधी चल रही है. निरंकुश सत्ता के खिलाफ अवाम हुंकार भर रही है. लोग शासन और उसकी नीतियों से त्रस्त होकर सड़क पर उतर रहे हैं. इन आंदोलनों को सत्ता परिवर्तन की मांग के रूप में देखा जा रहा है लेकिन बदलाव के बयार में कहीं न कहीं मानवाधिकार की भी घोर अहवेलना की जा रही है.


images 2आज 10 दिसम्बर को पूरा विश्व मानवाधिकार दिवस के रूप में मना रहा है. मानवाधिकार एक ऐसा विषय है जिस पर हमेशा से ही बहस रही है. बहस इस बात पर कि इंसान को इंसान की तरह जीने देना और साथ ही क्या इंसान की शक्ल में जो हैवान है उनका भी मानवाधिकार होना चाहिए.


Read: मोदी और राहुल को पछाड़ने आए केजरीवाल !!


मानवाधिकार दिवस की शुरुआत संयुक्त राष्ट्र महासभा ने 1948 में की थी. उसने 1948 में सार्वभौमिक मानवाधिकार घोषणा स्वीकार की थी और 1950 से महासभा ने सभी देशों को इसकी शुरुआत के लिए आमंत्रित किया था. संयुक्त राष्ट्र ने इस दिन को मानवाधिकारों की रक्षा और उसे बढ़ावा देने के लिए तय किया. लेकिन हमारे देश में मानवाधिकार कानून को अमल में लाने के लिए काफी लंबा समय लग गया. भारत में 26 सिंतबर 1993 से मानव अधिकार कानून अमल में लाया गया है.


सीरिया में मानवाधिकार की घोर

आज कई देशों में सत्ता से चिपके राष्ट्राध्यक्षों के शासन में मानव के हितों की अनदेखी की जा रही है. आवाज उठाने पर उन्हें दबा दिया जाता है. इराक, मिस्र, यमन और सीरिया जैसे अरब देशों को कौन भूल सकता है. आज भी मानवाधिकार के लिहाज से यहां की स्थिति दयनीय है.

मानवाधिकार की घोर अहवेलना इसी साल सीरिया में देखने को मिला जब दमिश्क के निकट विद्रोहियों पर किए हमले में रासायनिक हथियारों का प्रयोग किया है. आरोप है कि सीरियन सेना ने आबादी वाले इलाके में खतरनाक रासायनिक हथियारों का इस्तेमाल किया जिनसे 1300 से ज्यादा आम नागरिक मारे गए. इनमें से अधिकतर बच्चे और महिलाएं थीं. इस हमले ने संपूर्ण विश्व को सोचने पर मजबूर किया.


Read: ‘कांग्रेस’ हुई पस्त, ‘भाजपा’ हुई मस्त, ‘आप’ हुई जबरदस्त


मानवाधिकार के जनक का निधन

अब्राहम लिंकन और मार्टिन लूथर किंग जैसे ही ‘दक्षिण अफ्रीका के गांधी’ कहे जाने वाले नेल्सन मंडेला को प्रसिद्ध मानवाधिकार पुरोधा कहा जाता है. हाल ही में 95वें साल की उम्र में इनका निधन हो गया. मंडेला ने अपनी पूरी जिंदगी समानता और सम्मान और मानव के अधिकार में लगा दी.  दुनियाभर के नेताओं ने मानवाधिकार पर उनके योगदान को देखते हुए उन्हें ‘श्रेष्ठ व्यक्तित्व’ और ‘महापुरुष’ बताया.


Read More:

विपत्ति काल में ‘आलाकमान’ से कांग्रेस की उम्मीदें

कर्मठ, प्रतिबद्ध, शौकीन और रोमांचक मंडेला

जिंदगियों को लील जाती और पता भी नहीं होता



Tags:               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran