blogid : 3738 postid : 619213

शैलपुत्री: शुभ जीवन सद्भावना

Posted On: 5 Oct, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

नवरात्र पर्व (Navratri Festival) का भारत में विशेष महत्व है. माता भगवती की पूजा करने का यह समय सबसे उपयुक्त माना जाता है. नवरात्र में हिंदू धर्म के अनुसार व्रत और पूजन का विशेष महत्व है. ऐसा माना जाता है कि जो इस नवरात्र में पूरी श्रद्धा और भक्ति से माता भगवती की पूजा करते हैं उनकी सभी मनोकामना माता पूरी करती है.


mata shailputri 1नवरात्रि पर्व (Navratri Festival)के पहले दिन घट स्थापना की जाती है और माता शैलपुत्री (Mata Shailputri): की पूजा की जाती है. पूजा करने से पहले सर्वप्रथम स्नान आदि नित्य कर्म से निवृत्त होकर साफ वस्त्र पहन कर अपने ईष्ट देवता को याद करें और फिर व्रत का ध्यान कर अपनी पूजा आरंभ करें.


Read: नवरात्रि स्पेशल: खूब खाएं और वजन घटाएं


माता शैलपुत्री (Mata Shailputri): नवरात्र के प्रथम दिन माता शैलपुत्री की पूजा की जाती है. मां दुर्गा अपने प्रथम स्वरूप में शैलपुत्री के रूप में जानी जाती हैं. पर्वतराज हिमालय के यहां जन्म लेने से भगवती को शैलपुत्री कहा गया. भगवती का वाहन वृषभ है, उनके दाहिने हाथ में त्रिशूल और बाएं हाथ में कमल का पुष्प है. इस स्वरूप का पूजन प्रथम दिन किया जाता है. किसी एकांत स्थान पर मृत्तिका से वेदी बनाकर उसमें जौ, गेहूं बोएं और उस पर कलश स्थापित करें. कलश पर मूर्ति स्थापित करें. कलश के पीछे स्वास्तिक और उसके युग्म पा‌र्श्व में त्रिशूल बनाएं. माता शैलपुत्री (Mata Shailputri) के पूजन से मूलाधार चक्र जागृत होता है, जिससे अनेक प्रकार की उपलब्धियां प्राप्त होती हैं.


ध्यान मंत्र

वंदे वांच्छितलाभायाचंद्रार्धकृतशेखराम्.

वृषारूढांशूलधरांशैलपुत्रीयशस्विनीम्॥

पूणेंदुनिभांगौरी मूलाधार स्थितांप्रथम दुर्गा त्रिनेत्रा.

पटांबरपरिधानांरत्नकिरीटांनानालंकारभूषिता॥

प्रफुल्ल वदनांपल्लवाधरांकांतकपोलांतुंग कुचाम्.

कमनीयांलावण्यांस्मेरमुखीक्षीणमध्यांनितंबनीम्॥


Read:  नारी शक्ति पर्व ‘नवरात्र’ – वेदना श्रद्धेय होने की


स्तोत्र मंत्र

प्रथम दुर्गा त्वहिभवसागर तारणीम्.

धन ऐश्वर्य दायिनी शैलपुत्रीप्रणमाभ्यहम्॥

त्रिलोकजननींत्वंहिपरमानंद प्रदीयनाम्.

सौभाग्यारोग्यदायनीशैलपुत्रीप्रणमाभ्यहम्॥

चराचरेश्वरीत्वंहिमहामोह विनाशिन.

भुक्ति, मुक्ति दायनी,शैलपुत्रीप्रणमाभ्यहम्॥

चराचरेश्वरीत्वंहिमहामोह विनाशिन.

भुक्ति, मुक्ति दायिनी शैलपुत्रीप्रणमाभ्यहम्॥


कवच मंत्र

ओमकार:में शिर: पातुमूलाधार निवासिनी.

हींकार,पातुललाटेबीजरूपामहेश्वरी॥

श्रीकार:पातुवदनेलज्जारूपामहेश्वरी.

हूंकार:पातुहृदयेतारिणी शक्ति स्वघृत॥

फट्कार:पातुसर्वागेसर्व सिद्धि फलप्रदा


Read More:

शारदीय नवरात्र 2013: ब्रह्मचारिणी देवी

शारदीय नवरात्र 2013: माता चन्द्रघंटा

शारदीय नवरात्र 2013: कूष्माण्डा

शारदीय नवरात्र 2013: देवी स्कन्दमाता

शारदीय नवरात्र 2013: मां कात्यायनी

भक्तों को सभी कष्टों से मुक्त करने वाली मां कालरात्रि

शारदीय नवरात्र 2013: महागौरी

शारदीय नवरात्र 2013: माता सिद्धिदात्री




Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Bobbe के द्वारा
June 10, 2016

Wow, your post makes mine look febeel. More power to you!


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran