blogid : 3738 postid : 594163

सचिन पायलट: महज 26 वर्ष की उम्र में ही बन गए सांसद

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कांग्रेस में जिस युवा ब्रिगेड की बात होती है उसमे सचिन पायलट का नाम उपर के कतार में लिया जाता है. सचिन पायलट को कांग्रेस के उपाध्यक्ष राहुल गांधी के करीबियों में से एक माने जाते है. उन्हें अकसर राहुल गांधी के साथ युवाओं को प्रेरित करते हुए देखा जाता है. आज वह बड़ी सफलतापूर्व अपने पिता राजेश पायलट के राजनीति विरासत को आगे बढ़ा रहे हैं.


sachin pilotसचिन पायलट का जीवन परिचय

प्रतिष्ठित कांग्रेस नेता राजेश पाइलट के बेटे सचिन पाइलट का जन्म 7 सितंबर, 1977 को सहारनपुर, उत्तर प्रदेश में हुआ था. सचिन पाइलट की प्रारंभिक शिक्षा एयर फोर्स बाल भारती स्कूल, दिल्ली में संपन्न हुई. स्नातक की पढ़ाई उन्होंने दिल्ली विश्वविद्यालय के सेंट स्टीफन कॉलेज से संपन्न की. इसके बाद सचिन पायलट ने व्हार्टन बिजनेस स्कूल और यूनिवर्सिटी ऑफ पेंसिलवेनिया से एम.बी.ए. की उपाधि प्राप्त की. वर्ष 2004 में सचिन पायलट ने जम्मू कश्मीर के प्रभावी और प्रख्यात कांग्रेसी नेता फारुख अबदुल्ला की बेटी सारा से विवाह किया. इन दोनों का एक बेटा भी है.


Read: ग्लैमरस अंदाज है इनका


सचिन पायलट का व्यक्तित्व

भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के युवा चेहरा सचिन पायलट एक प्रतिभावान और प्रभावशाली व्यक्तित्व के नेता हैं. गुर्जर समुदाय से संबंधित होने के बावजूद इन्होंने मुसलिम युवती से विवाह रचाया, जो यह प्रमाणित करता है कि यह एक खुले विचारों और आधुनिक मानसिकता वाले व्यक्ति हैं.


सचिन पायलट का राजनैतिक सफर

सचिन पायलट के पिता राजेश पायलट एक प्रतिष्ठित कांग्रेसी नेता थे, उनकी साख के कारण सचिन का राजनीति में आगमन बहुत आसानी और सहजता से हो गया. अमेरिकी यूनिवर्सिटी से पढ़ाई पूरी करने के बाद सचिन पायलट ने वर्ष 2002 में कांग्रेस की सदस्यता ली और सक्रिय राजनीति से जुड़ गए. सचिन पायलट वर्ष 2004 में पहली बार चुनाव लड़े और राजस्थान की दौसा निर्वाचन सीट से लगभग 1 लाख वोटों से विजयी होकर लोकसभा पहुंचे. इसके बाद सन् 2009 में अजमेर सीट पर बीजेपी प्रत्याशी किरण महेश्वरी को 76,000 मतों से हरा वह एक बार फिर संसद के सदस्य बने. सचिन पायलट 26 वर्ष की छोटी सी उम्र में सांसद बनने वाले पहले व्यक्ति हैं. वर्तमान में सचिन पायलट केन्द्रीय कंपनी मामलों के राज्य मंत्री हैं.

सचिन पायलट ने वर्ष 2001 में अपने पिता को समर्पित एक किताब भी लिखी है जो राजेश पायलट – द स्पिरिट फॉरएवर के नाम से प्रकाशित हुई. पेशे से किसान सचिन पायलट को थियेटर और फिल्में देखने का भी शौक है. वह क्रिकेट खेलना भी पसंद करते हैं. सचिन पायलट अर्थव्यवस्था, घरेलू और अंतरराष्ट्रीय मसलों से संबंधित सभी समाचारों पर बराबर नजर रखते हैं.

Read:

अभिनय ने नहीं निर्देशन ने दिया वो मुकाम

यह कोई मोदी नहीं जिसकी राह में इतने कांटे हों



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 3.50 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran