blogid : 3738 postid : 3769

World Anti tobacco Day: खुद को दिया जाने वाला ‘चरम सुख’ कैसी प्रवृति है

Posted On: 30 May, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आज समाज में एक अलग तरह की प्रवृति देखने को मिल रही है जहां पर एक व्यक्ति खुद को चरम सुख देने के लिए ऐसी चीजों का सहारा ले रहा है जिसके लत से न केवल वह अपनी जिंदगी के सारे रास्ते बंद कर रहा है बल्कि समाज को दूषित करने में अपनी अहम भूमिका भी निभा रहा है. अंतरराष्ट्रीय तंबाकू निषेध दिवस के दिन लोगों को हर बार यह बताया जाता है कि तंबाकू के सेवन से सांस की बीमारियों से लेकर कैंसर तक का खतरा बढ़ जाता है जो उनकी मौत का कारण बनता है.

Read More: World No Tobacco Day


world tobacco day 2013विश्व तंबाकू निषेध दिवस (World no Tobacco Day 2013)

तंबाकू के इसी दुष्परिणाम को समझते हुए विश्व स्वास्थ्य संगठन ने साल 1988 से 31 मई को विश्व तंबाकू निषेध दिवस के रूप में मनाने का निर्णय लिया. साल 2008 में विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सभी तंबाकू विज्ञापनों, प्रमोशन आदि पर बैन लगाने का आह्वान किया. इस साल की थीम है अंतरराष्ट्रीय तंबाकू निषेध दिवस (World no Tobacco Day 2013) के अवसर पर तंबाकू के विज्ञापन, प्रमोशन और स्पॉन्सर पर रोक लगाई जाए.


चिंता की बात

चिंता की बात ये है कि दुनिया में हर साल तंबाकू से जुड़ी बीमारियों से करीब 60 लाख लोगों की मौत होती है इसमें से अधिकांश वह लोग हैं जो गरीब देशों से नाता रखते हैं. एक अनुमान के मुताबिक 2020 तक तंबाकू से मरने वालों की संख्या करीब एक करोड़ तक पहुंचने की आशंका है.


Read: कुश्ती की रिंग में तीन खेल


वहीं भारत में हर साल तंबाकू से कम से कम 10 लाख लोगों की मौत होती है. इसकी संख्या लगातार बढ़ रही है. यहां लोग सिगरेट, बीड़ी, गुटके और खैनी जैसे तंबाकू उत्पादों का सेवन अपनी रोजमरा की जिंदगी में करते हैं. सर्वे की मानें तो तंबाकू खपत के मामले में भारत जहां चीन के बाद दूसरे स्थान पर है वहीं तंबाकू निर्यात के मामले में भी वह ब्राजील, चीन,  अमरीका,  मलावी और इटली के बाद छठे स्थान पर है.


डब्ल्यूएचओ का सुझाव

अंतरराष्ट्रीय तंबाकू निषेध दिवस (World no Tobacco Day 2013) के अवसर पर ऐसे कई मौके आए हैं जब डब्ल्यूएचओ ने दुनिया के विकसित और विकासशील देशों में तंबाकू के इस्तेमाल को लेकर चेताया है. डब्ल्यूएचओ सभी देशों से आग्रह किया है कि वे तंबाकू के प्रचार-प्रसार पर कड़ाई से रोक लगाएं. साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि तंबाकू उत्पाद बनाने वाली कंपनियां किसी भी आयोजन को स्पॉन्सर न करें. डब्ल्यूएचओ ने यह सुझाव भी दिया है कि तंबाकू उत्पादों पर अधिक से अधिक कर लगाकर लोगों को इनसे दूर रखा जा सकता है.


Read More:

कुश्ती की रिंग में तीन खेल

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार विजेता ‘ऋतुपर्णो घोष’


Tags: world tobacco day 2013, world tobacco day 2013 in hindi, world no tobacco day 2013, world no tobacco day 2013 theme, world anti tobacco day 2013, अंतरराष्ट्रीय तंबाकू निषेध दिवस, विश्व तंबाकू दिवस.





Tags:               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

syam के द्वारा
May 31, 2013

यह चरम सुख ही तो है जिसको पाने के लिए एक इंसान दूसरे इंसान की हत्या कर रहा है


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran