Best Web Blogs    English News

facebook connectrss-feed

Special Days

व्रत-त्यौहार, सितारों के जन्म दिन, राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय महत्व के घोषित दिनों पर आधारित ब्लॉग

1,053 Posts

1307 comments

Kanshi Ram: इन्होंने दलित चेतना जगाकर कर दिया कायापलट

पोस्टेड ओन: 15 Mar, 2013 जनरल डब्बा में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

kanshi ramउत्तर प्रदेश में कभी दलित वोट बैंक कांग्रेस का सबसे खास जनाधार माना जाता था. पार्टी के उम्मीदवारों की जीत में यह वर्ग एक अहम भूमिका निभाता था लेकिन जब बहुजन समजवादी पार्टी के संस्थापक और दलितों के महानायक कांशीराम (Kanshi Ram Profile in Hindi) ने उत्तर प्रदेश में दलित वोट बैंक को अपने साथ लेने की मुहिम शुरू की तो कोई सोच भी नहीं सकता था कि यह मुहिम एक दिन उत्तर प्रदेश में पूर्ण बहुमत वाली सरकार बनाने तक भी जा पहुंचेगी.


Read:  हनी सिंह के शब्दों की चोट


एक मजबूत जनाधार वाली पार्टी

आज जो उत्तर प्रदेश में बहुजन समजवादी पार्टी की स्थिति है वह एक मजबूत विपक्षी पार्टी के रूप में है. अगर उत्तर प्रदेश की जनता बीएसपी को सत्ता से बाहर का रास्ता दिखाकर सपा को एक मजबूत विकल्प के रूप में देखती है तो कुछ समय बाद यही जनता सपा के कुप्रशासन से तंग आकर बीएसपी को सत्ता की चाभी देने में देर नहीं लगाती. कहने का मतलब यह है कि जिस पार्टी की स्थापना कांशीराम ने उत्तर प्रदेश में की थी आज वह ऐसी स्थिति में पहुंच गई है कि जनता यदि विकल्प के बारे में सोचती है तो वह बीएसपी पर विचार करेगी न की कांग्रेस और भाजपा पर.


गरीबों के दुखदर्द को समझने वाले

कांशीराम ने अपना सारा जीवन गरीबों और दलितों के उत्थान में लगा दिया. कांशीराम का उद्देश्य ‘सर्व जनहिताय, सर्व जनसुखाय’ रहा. वह उन लोगों में से थे जो अपना सुख आराम त्याग कर गरीबों की सेवा में अपना जीवन न्यौछावर कर देते हैं. जिंदगी भर अविवाहित रहकर, बिना किसी लाभ के पद पर रहे हुए उन्होंने बीएसपी और दलित समाज को संगठित किया. सोशल इंजीनियरिंग का उन्होंने जो सफल मंत्र दिया वह भारतीय इतिहास में अद्वितीय है. देश में ऐसे प्रतिभाशाली और क्रांतिकारी प्रवृत्ति के नेता बहुत कम हैं लेकिन इनकी सोच और सर्वजन हिताय की सोच को आज बीएसपी शायद भूल चुकी है.


Read: इन खिलाड़ियों को नहीं बर्दाश्त हो रही है हार


पार्टी में व्यक्तिगत महत्वाकांक्षाएं बढ़ चुकी हैं. जिस सोच को देखते हुए इस पार्टी की स्थापना हुई थी आज यह पार्टी कुप्रशासन और भ्रष्टाचार में तब्दील हो गई है. दलितों से जुड़ी समस्याओं को लगातार नजरअंदाज किया जा रहा है और पार्टी के लोग एक महिला की पूजा करने में व्यस्त हैं. अगर बीएसपी चाहती है कि स्थिति वाकई बदले तो उसे मूर्तियों और अकूत दौलत जमा करने पर कम और दलितों और पिछड़े वर्ग पर ज्यादा ध्यान देना होगा.


Read:

मायावती: तानाशाह या एक जुझारु नेता

अरे बेनी जी आपने ये क्या कह दिया !!


Tag: kanshi ram in hindi, kanshi ram profile in hindi, kanshi ram, कांशी राम, बहुजन समाजवादी पार्टी, उत्तर प्रदेश.




Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (No Ratings Yet)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • Share this pageFacebook0Google+0Twitter0LinkedIn0
  • SocialTwist Tell-a-Friend

Similar articles :
दलित को कौन पूछता है वह तो मात्र “वोट” है

इन नवविवाहित जोड़ों को मिलेगा सरकारी सम्मान के साथ 50,000 रुपये ईनाम… लेकिन क्यों

फेसबुक पोस्ट के कारण नौवीं का यह छात्र पुलिस हिरासत में

बड़े-बड़े रिपोर्टरों को चुनौती दे रही हैं ये ग्रामीण महिलाएं…पढ़िए परिश्रम व जज्बे की मिसाल देती एक सच्ची कहानी

क्या ‘अल्लाह’ ने उसे अपना पैगंबर बनाकर धरती पर भेजा है… पढ़िए एक ऐसे जीव के बारे में जिसे देखते ही अल्लाह का आभास होता है

उत्तर प्रदेश में माँ- बेटियों की अस्मत महफूज़ नहीं ?

रक्तरँजित उत्तर प्रदेश (jagran junction forum)

जला देगी सपा की नीति पश्चिमी उत्तर प्रदेश को jagran junction forum

गुलाबी गैंग व महिला सशक्तीकरण

आजम खान की भैंसे

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments




  • ज्यादा चर्चित
  • ज्यादा पठित
  • अधि मूल्यित