blogid : 3738 postid : 3505

जब नमक ने बदल दी देश की तकदीर

Posted On: 12 Mar, 2013 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

salt satyagrahaयह वह दौर था जब देश आजादी के लिए हुंकार भर रहा था. हर किसी के दिल में ब्रिटिश राज के खिलाफ एक अलग तरह की कसक थी. कसक ऐसी जो कभी भी एक बड़े आंदोलन का रूप ले सकती थी. महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) अभी पूरी तरह से लाइम लाइट में आए थे. असहयोग आंदोलन समाप्त होने के कई वर्ष बाद तक गांधी जी ने अपने को समाज सुधार कार्यों पर केंद्रित रखा. वह सक्रिय राजनीति से पूरी तरह से दूर रहे. लेकिन जब वह दोबारा आंदोलन में सक्रिय हुए तब उन्होंने न केवल ब्रिटिश सरकार की बल्कि पूरी दुनिया की आत्मा को झकझोर दिया था.


Read: मरे नहीं मार दिए गए गांधी जी…


बात मार्च 1930 की है जब गांधी जी ने नमक पर कर लगाए जाने के विरोध में नया सत्याग्रह चलाया जिसे 12 मार्च से 6 अप्रैल तक नमक आंदोलन (Salt March in Hindi) के रूप में लगातार 24 दिनों तक 400 किलोमीटर का सफर अहमदाबाद (साबरमती आश्रम) से दांडी, गुजरात तक चलाया गया ताकि स्वयं नमक उत्पन्न किया जा सके. नमक ऐसी चीज है जिसका इस्तेमाल गरीब से लेकर हर अमीर करता है. पशुओं को खिलाने में भी इसका इस्तेमाल किया जाता है. ऐसी सर्वव्यापी और सार्वकालिक वस्तु को आजादी के आंदोलन से जोड़ना ही गांधी विचार और कर्म की विशिष्टता है. यही वजह रही कि महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के दांडी कूच और नमक सत्याग्रह ने दुनिया को सोचने पर मजबूर कर दिया.


Read: इनकी खूबसूरती का कोई जवाब नहीं


दांडी की ओर इस यात्रा में हजारों की संख्‍या में भारतीयों ने भाग लिया. लगभग तीन हफ्तों बाद गांधी जी अपने गंतव्य स्थल पर पहुंचे और मुट्‌ठी भर नमक बनाकर स्वयं को कानून की निगाह में अपराधी बना दिया. इसी बीच देश के अन्य भागों में समानांतर नमक यात्राएं अयोजित की गईं. महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के इस आन्दोलन को जगह-जगह से समर्थन मिलने लगा. भारत में अंग्रेजों की पकड़ को विचलित करने वाला यह एक सर्वाधिक सफल आंदोलन था जिसमें अंग्रेजों ने 80,000 से अधिक लोगों को जेल भेजा. इस आंदोलन का प्रभाव इतना रहा कि इसकी चिंगारी की लपट ने आगे चलकर सविनय अवज्ञा आंदोलन की आधारशिला रखी.


2011 में अमेरिका की मशहूर पत्रिका टाइम ने वर्ष 1930 में महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के नेतृत्व वाले दांडी मार्च (नमक सत्याग्रह) को दुनिया को बदल देने वाले 10 महत्वपूर्ण आंदोलनों की सूची में दूसरे स्थान पर रखा है. टाइम पत्रिका ने नमक सत्याग्रह के बारे में लिखा कि भारत पर ब्रिटेन की लंबे समय तक चली हुकूमत कई मायने में चाय, कपड़ा और यहां तक की नमक जैसी वस्तुओं पर एकाधिकार कायम करने से जुड़ी थी. टाइम पत्रिका के अनुसार दांडी यात्रा के दौरान बड़ी संख्या में बापू के समर्थक उनके साथ जुड़ गए थे. रिपोर्ट में टाइम ने लिखा कि महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) और उपस्थित जनसमुदाय ने समुद्र से नमक बनाया.


Read:

मजबूरी नहीं मजबूती का नाम है ‘महात्मा गांधी’

आखिर क्यूं हुई गांधी जी की हत्या


Tag: dandi march in hindi, dandi march, Salt March in Hindi, Dandi March, Dandi Salt March, Mahatma Gandhi, British imposistion, दाडी मार्च, नमक सत्याग्रह, महात्मा गांधी, गांधी.




Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 3.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

1275 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Jeana Quintania के द्वारा
February 18, 2017

What i don’t realize is in fact how you are not really a lot more neatly-favored than you might be right now. You are very intelligent. You realize thus significantly on the subject of this topic, produced me individually believe it from so many varied angles. Its like men and women don’t seem to be fascinated except it¡¦s one thing to accomplish with Girl gaga! Your own stuffs nice. At all times handle it up!

Fermin Poley के द्वारा
February 18, 2017

that’s good, thanks for sharing,.. I think this is great blog

Scottie Frear के द्वारा
February 18, 2017

Thanks for sharing your thoughts on meta_keyword. Regards

Ma Dzledzic के द्वारा
February 10, 2017

I’ve read some good stuff here. Definitely price bookmarking for revisiting. I surprise how much effort you place to make the sort of magnificent informative website.

Owen Ronald के द्वारा
February 10, 2017

stamp duty calculator vic

Jamar Lomba के द्वारा
February 10, 2017

I like what you guys are up too. Such smart work and reporting! Keep up the superb works guys I have incorporated you guys to my blogroll. I think it’ll improve the value of my site :) .

Gale Scheidel के द्वारा
February 10, 2017

I will right away take hold of your rss feed as I can’t in finding your email subscription link or e-newsletter service. Do you’ve any? Kindly allow me realize in order that I could subscribe. Thanks.

Marion Yournet के द्वारा
February 10, 2017

I love the efforts you have put in this, thank you for all the great content.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran