blogid : 3738 postid : 3423

Rose Day in Hindi - दुआ है हमारी, गुलाबों सी महके जिंदगी तुम्हारी

Posted On: 7 Feb, 2013 मस्ती मालगाड़ी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

पश्चिमी सभ्यता की कायल होती भारतीय युवा पीढ़ी ना सिर्फ पश्चिमी रहन-सहन का ही तहेदिल से स्वागत करती है बल्कि यह पीढ़ी पश्चिमी त्यौहारों को भी दिल से सेलिब्रेट करती है और इसी का सबसे सशक्त उदाहरण है वैलेंटाइन वीक. संत वैलेंटाइन की याद में मनाया जाने वाला वैलेंटाइन डे आज भारत में भी उसी गर्मजोशी के साथ मनाया जाता है जैसे विदेशों में मनाया जाता है. लेकिन वैलेंटाइन से एक सप्ताह पहले ही इस त्यौहार की तैयारी रोज डे (Rose Day) के द्वारा शुरू हो जाती है.


rose day 10Rose Day- रोज डे

हर साल 07 फरवरी को ‘रोज डे’ मनाया जाता है. इस दिन युवा पीढ़ी एक दूसरे को गुलाब का फूल भेंट कर अपनी भावनाओं का इजहार करते हैं. अलग-अलग रंगों के गुलाब युवाओं को अपनी अलग-अलग भावनाएं जताने का मौका देती प्रतीत होती हैं. वेलेंटाइन वीक को लेकर मुहब्बत की चाहत रखने वालों को तो इस सात दिनों का बेसब्री से इंतजार रहता है और इन सात दिनों की शुरुआत रोज डे जैसे बेमिसाल दिन से होती है.



Types of Rose: हर रिश्ते के लिए है अलग गुलाब

लाल गुलाब प्रेम का प्रतीक माना जाता है इसलिए रोज डे पर सबसे ज्यादा लोग लाल गुलाब के लिए ही बेताब दिखते हैं लेकिन इसके अलावा और भी कई गुलाब हैं जो समय और परिस्थिति को ध्यान में रखकर दिए जाते हैं.


अगर किसी से दोस्ती की शुरुआत करनी है तो आप उसे पीला गुलाब देकर अपना भाव प्रकट करें और प्यार का इजहार करना हो तो लाल गुलाब का तोहफा दें. गुलाब का फूल हमारा न सिर्फ राष्ट्रीय फूल है बल्कि यह सुख-शांति का भी प्रतीक माना जाता है. निश्चित रूप से गुलाब की भेंट पाकर कोई भी बैर-भाव भुला सकता है. सफेद गुलाब यूं तो बहुत ही मुश्किल से मिलता है लेकिन इसका प्रयोग कर आप ऐसी लड़की से माफी मांग सकते हैं जिससे आपकी कभी लड़ाई हुई हो.


Read: फुस हुआ “बिन्नी” बम


कहीं खो तो नहीं रही युवा पीढ़ी?

वैलेंटाइन डे और रोज डे जैसे दिन मनाना तो बुरा नहीं है लेकिन अपनी स्वतंत्रता की दुहाई दे समाज में सांस्कृतिक या अन्य तरीके से गंदगी फैलाना गलत है. अकसर कई युवा बसों, मेट्रो या पार्क आदि जगहों पर खुलेआम प्रेमालाप, आलिंगन या चुंबन करते दिखाई देते हैं. व्यक्ति की निजी स्वतंत्रता के नजरिए से तो यह गलत नहीं है लेकिन हमें यह नहीं भूलना चाहिए कि हमारे साथ कई अन्य लोग भी इस समाज का हिस्सा है जो ऐसी चीजों को सार्वजनिक स्थलों पर पसंद नहीं करते और ऐसी स्थिति में बेहद असहज महसूस करते हैं. यूं तो दिल्ली जैसे महानगरों में सार्वजनिक स्थलों पर अश्लील हरकतें करने पर दंड और जुर्माने का प्रावधान है लेकिन हमें नैतिकता सिखाने के लिए दंड ही एकमात्र रास्ता है? क्या हमारी युवा पीढ़ी अपने लिए ऐसे नियम नहीं बना सकती जिससे वह समाज के बंधनों को तोड़े बिना अपनी आजादी मना सके?


हालांकि यह सवाल युवा पीढ़ी को अपनी स्वतंत्रता पर प्रहार लग सकती है और इस सवाल का जवाब ढूंढ़ना शायद थोड़ा मुश्किल हो इसलिए हम अभी इस पर विराम लगाकर अपने पाठकों को रोज डे यानि गुलाब दिवस की शुभकामनाएं देते हैं.


Valentine’s Day: वेलेंटाइन वीक कैलेंडर


7 फरवरी रोज डे (Rose Day)

8 फरवरी प्रपोज डे (Propose Day)

9 फरवरी चॉकलेट डे (Choclate Day in Hindi)

10 फरवरी टैडी डे (Teddy Day in Hindi)

11 फरवरी प्रॉमिस डे (Promise Day in Hindi)

12 फरवरी हग डे (Hug Day)

13 फरवरी किस डे (Kiss Day)

14 फरवरी वेलेंटाइन डे (Valentine Day)


Also Read-

Love Tips in Hindi

What a Woman Wants?


Post Your Comments on: क्या वैलेंटाइन डे जैसे दिवस युवाओं को गलत राह पर भटका रहे हैं?




Tags:                               

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 1.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

3 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

Pradeep के द्वारा
January 20, 2014

जिसने भी ये आर्टिकल लिखा है उसे ये तो पता नहीं है कि अपना रास्ट्रीय फूल कौन सा है लिखा है कि…………. “गुलाब का फूल हमारा न सिर्फ राष्ट्रीय फूल है बल्कि यह सुख-शांति का भी प्रतीक माना जाता है.” कृपया इसे सही करें.

अंजलि के द्वारा
February 7, 2013

इसमें कोई शक नहीं कि वैलेंटाइन डे और पेरेम दिवस जैसे मौके हमारे समाज से नैतिकता को खत्म कर रहे हैं लेकिन सिक्के का दूसरा पहलू हमें आजादी की याद दिलाता है. हमारी आजादी भी तो हमारे लिए कुछ मायने रकह्ती है ना

    Pradeep के द्वारा
    January 20, 2014

    अंजलि जी पहले सही फूल तो देख लें कॉसन सा राष्ट्रीय फूल है……


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran