blogid : 3738 postid : 3025

Rekha Profile in Hindi : रेखा के खामोश प्यार की दर्दभरी दास्तां

Posted On: 10 Oct, 2012 मस्ती मालगाड़ी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

इन आंखों की मस्ती के मस्ताने हजारों हैं. इन आंखों की मस्ती के अफसाने हजार हैं………यह लाइन बॉलिवुड डिवा रेखा पर बिलकुल सटीक बैठती हैं. बॉलिवुड में रेखा की सुन्दरता का शायद ही कोई दूसरा मेल देखने को मिलता है. आज ढलती उम्र में जहां हुस्न अकसर अपनी रौनक छोड़ देता है वहीं रेखा का हुस्न दिन ब दिन बढ़ता ही जा रहा है.


Rekhaकजरारी आंखों और मस्तानी चाल वाली रेखा

रेखा की पहचान आज उमराव जान की उस अभिनेत्री के तौर पर है जिसे देखने के लिए दर्शक सिनेमाघर में लड़ाई तक कर जाते थे. आज खूबसूरत और दिलकश दिखने वाली रेखा कभी बेहद मोटी और सांवली हुआ करती थीं जिन्हें देख कर एक बार किसी निर्देशक ने कह डाला था कि यह मोटी और सांवली लड़की हिरोइन कैसे बन गई. लेकिन आज की तारीख में रेखा के हुस्न के आगे किसी अन्य को रखना बेमानी लगता है.



रेखा की सेक्स अपील

रेखा की खूबसूरती के अलावा जिस चीज की चर्चा सबसे ज्यादा हुई वह थी उनकी सेक्स अपील. बेहद बोल्ड और शानदार दिखने वाली रेखा की अदाकारी का एक अहम हिस्सा था उनका आंखों से बोलने की अदा. कजरारी आंखों के कातिलाना वार से रेखा ने ना सिर्फ रील लाइफ में बल्कि रियल लाइफ में कई लोगों को घायल किया है.


Life History of Rekhaजिन्दगी के सफर में अकेली रेखा

बेबी भानुरेखा के नाम से चार साल की उम्र में कैमरे से रिश्ता जोड़ने वाली रेखा की जिंदगी संघर्ष और सफलता की किसी रोचक दास्तां से कम नहीं है. रेखा ने बॉलिवुड में जो स्थान पाया है वह संघर्ष के पथरीले रास्तों से होकर गुजरा. पैसों की तंगी की वजह से उन्होंने बी और सी ग्रेड की फिल्में भी की और जब एक बार उनका सितारा चमका तो जिन्दगी भर अकेले रहने का गम भी सहना पड़ा. खूबसूरत और साफ दिल होने के बावजूद वह अकेले ही अपनी जिंदगी जीती हैं.


Read: Love Story of Rekha


Profile of Rekha in Hindi

तमिल फिल्मों के सुपर स्टार जैमिनी गणेशन और तेलुगू अभिनेत्री पुष्पवल्ली की बेटी रेखा का जन्म 10 अक्टूबर, 1954 को चेन्नई में हुआ था. माता पिता के फिल्मों में होने की वजह से रेखा का भी झुकाव फिल्मों की तरफ ही रहा. उनका बचपन का नाम भानुरेखा गणेशन था जिसे बदलकर उन्होंने फिल्मों में आने के बाद रेखा कर लिया. अभिनय का सफर रेखा के लिए आसान नहीं था. कमजोर पारिवारिक स्थिति ने फिल्मों में अभिनय के लिए उन पर दबाव डाला.


रेखा के परिवार में उनकी छ: बहनें हैं व एक भाई जो अपनी-अपनी जीवनशैली में व्यस्त हैं. रेखा की बहन राधा के पुत्र नविद जो सैन फ्रांसिस्को में रहते हैं, जल्द ही फिल्मों में एक्टिंग करते नज़र आएंगे. रेखा कहीं न कहीं आज भी पारिवारिक सुख से महरूम हैं. वे अकसर यह कहती नज़र आती हैं कि काश ऋतिक रोशन जैसा उनका भी एक पुत्र होता.  रेखा को सन् 2010 में पद्म श्री से सम्मानित किया गया. वर्तमान में रेखा बतौर सांसद राज्यसभा में शामिल हैं.


Read - अमिताभ बच्चन और रेखा : खामोशियों के भी अलफाज होते हैं


फिल्मी कॅरियर की शुरुआत

वर्ष 1966 में महज 12 साल की उम्र में बतौर बाल कलाकार उन्होंने तेलुगू फिल्म रंगुला रतनाम से अभिनय की शुरुआत की थी. उनकी पहली हिंदी फिल्म सावन भादो थी. उनका अधिक वजन और हिंदी भाषा की जानकारी का अभाव लोगों को हजम नहीं हुआ और दर्शकों ने उन्हें नकार दिया.  अपने 42 साल के कॅरियर में उन्होंने अब तक घर, खूबसूरत, सिलसिला, विजेता, उत्सव, खून भरी मांग, जुबेदा, भूत और कृष जैसी तकरीबन 180 फिल्मों में अभिनय किया है.


रेखा की बेहतरीन फिल्में

यूं तो रेखा ने बहुत सी शानदार फिल्मों में काम किया लेकिन जिन फिल्मों में रेखा का जादू सर चढ़ कर बोला वह थी उमराव जान, खूबसूरत, सिलसिला, मुकद्दर का सिकंदर, खूब भरी मांग, खिलाड़ियों का खिलाड़ी.


उमराव जान में रेखा का अभिनय अपने शिखर पर था. इस फिल्म में उनके नृत्य कला की सबने तारीफ की. खूबसूरत के लिए रेखा को पहली बार फिल्मफेयर की तरफ से सर्वश्रेष्ठ अभिनेत्री का खिताब मिला. सिलसिला में रेखा ने अपनी जिंदगी को पर्दे पर उतारने का सबसे मुश्किल काम कर दिखाया. एक पूर्व प्रेमिका के दर्द को आंखों में उन्होंने इस कदर उतारा कि लोगों को सिलसिला एक फिल्म नहीं एक सच्ची कहानी लगने लगी. सिर्फ लीड हीरोइन ही नहीं रेखा ने कई निगेटिव रोल भी निभाए जिनमें खिलाड़ियों का खिलाड़ी अहम थी.


Read: सेना में भूत को मिलता है वेतन और प्रमोशन


रेखा और कामसूत्र

साल 1996 में आई फिल्म “कामसूत्र” में जब रेखा नजर आईं तो उनकी बहुत ज्यादा निंदा की गई लेकिन रेखा ने खुद को एक कलाकार के रूप में पेश किया था और वह किसी भी काम को ना नहीं कहती थीं इसीलिए उन्होंने इस फिल्म को करना स्वीकार किया. यूं तो सेक्स संबंधों पर आधारित इस फिल्म में रेखा के काम की खास चर्चा नहीं हुई लेकिन कई लोगों ने उनके साहस की तारीफ की.


Read: Kamasutra in Hindi


रेखा और अमिताभ

बॉलीवुड में ऐसी बहुत सारी अधूरी प्रेम कहानियां है जिन्हें उनका मुकाम नहीं मिला लेकिन रेखा की बात और है. अमिताभ और रेखा के बीच में आखिर कुछ था भी या यह सब ऐसे ही अफवाह थी यह आज भी लोगों के लिए एक मिस्ट्री बनी हुई है.


भले ही दो दिलों में पनपते प्यार को लोगों ने कुछ और ही नाम दिया हो लेकिन दोनों ने प्यार की एक अलग मिसाल कायम की है. सिलसिला और सुहाग जैसी कुछ फिल्मों में यह दिखाई भी दिया.


लेकिन सबसे बड़ी बात है कि ऐसे प्यार का नजारा न तो कभी देखा गया था न तो कभी देखा जाएगा. खामोश रहकर, एक-दूसरे से बगैर कुछ कहें बस उस एहसास को महसूस करना यह बहुत बड़ी बात है. अमिताभ ने एक अच्छे पति का फर्ज निभाया और और अपने अधूरे प्यार को भुला दिया. लेकिन आज भी दोनों एक-दूसरे की सलामती के लिए चुपके से दुआ मांगते हैं.


रेखा अदभुत हैं और शब्दों से पार उनका एक ऐसा संसार है, जिसके रहस्य कोई नहीं जान सकता, सिवाय रेखा के. रेखा की जिंदगी के तमाम ऐसे किस्से हैं जो शायद आज भी लोगों की निगाहों से दूर हैं.


Read more :

Love Stories of Rekha

Amitabh and Rekha’s Scandal



Tags:                           

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (6 votes, average: 4.17 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran