blogid : 3738 postid : 3020

लव, शक और फरेब की कहानी “रेखा”

Posted On: 9 Oct, 2012 मस्ती मालगाड़ी में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

यह बॉलिवुड है दोस्तों, यहां हर किरदार खुद में हजारों कहानियां लिए घूमता है. एक स्ट्रगलर के अंदर मुश्किलों की राहों के निशान होते हैं तो एक कामयाब सितारे के दिल में उस कामयाबी तक पहुंचने की कहानी. खुद में हजारों कहानियां लिए रंगमंच की ऐसी ही एक किरदार हैं रेखा. कल रेखा का जन्मदिन है. आज शोहरत, सफलता और कामयाबी के शिखर पर पहुंची रेखा की जिंदगी पर्दे से शुरू होकर संसद तक जा चुकी है लेकिन इस कहानी में कई ऐसे पड़ाव भी हैं तो प्यार, शक और फरेब की गलियों से होकर गुजरते हैं.


Rekha’s Love Affairs: दिलकश अभिनेत्री रेखा

रेखा की जिंदगी में प्यार तो कई बार और कई सूरतों में आया लेकिन जिस स्थाई सहारे और प्यार की उन्हें जरूरत थी वह उनकी जिंदगी से नदारद ही रहा. एक के बाद एक रेखा की ज़िन्दगी में चाहने वाले तो आते गए लेकिन कोई उनका सहारा ना बन सका.


Rekha’s Love Affairs in Hindi: रेखा और उनके अफेयर

आइए जानें दिलकश रेखा के प्यारे के अफसाने. इन अफसानों में रेखा तो अकेली हैं लेकिन उनके साथी बदलते रहे हैं.


LOVE STORY OF REKHARekha’s Affair with Navin Nischol-रेखा और नवीन निश्चल: रेखा ने अपने फिल्मी कॅरियर की शुरुआत “सावन भादो” से की थी. शुरुआत में सांवली और थोड़ी मोटी दिखने वाली रेखा की यह पहली हिंदी फिल्म हिट साबित हुई थी. इसी फिल्म के सेट पर बॉलिवुड में पहली बार रेखा का नाम किसी के साथ जुड़ा. यह नाम था नवीन निश्चल का. हालांकि रेखा की जिंदगी में नवीन निश्चल आए और चले गए. यहां से शुरुआत हुई रेखा की जिंदगी में प्यार के आने-जाने की.


Read: आखिर क्या कहते हैं रेखा के सितारे


Rekha’s Affair with Biswajit - रेखा और विश्वजीत: फिल्म “दो शिकारी” का सेट और रेखा का फिल्मी पर्दे पर पहला किस सीन. शायद इससे बेहतरीन प्लेटफॉर्म अभिनेता विश्वजीत को अपने प्यार के लिए नहीं मिल सकता. दो शिकारी के सेट पर जब रेखा पर किस सीन को फिल्माया गया था तब रेखा शॉट के बाद बेहोश हो गई थीं. वह इस सीन के लिए तैयार तो नहीं थीं लेकिन फिल्म की जरूरत की वजह से उन्हें यह सीन देना पड़ा. इस फिल्म के दौरान रेखा का नाम विश्वजीत के साथ जुड़ा और चर्चा आई कि दोनों एक साथ काफी समय बिता रहे हैं. लेकिन यह समय था हिन्दी सिनेमा और रेखा के उदय और विश्वजीत के कॅरियर के डूबने का और डूबती नैया पर कौन सैर करना चाहेगा सो रेखा ने कश्ती बदल ली.


Vinod Mehra with Rekha, LOVE STORYRekha’s Affair with Vinod Mehra- रेखा और विनोद मेहरा: विनोद मेहरा को रेखा की जिंदगी का असली प्रेमी कहा जाता है. दोनों की मुलाकात, दोनों का मिलना, दोनों का सार्वजनिक तौर पर एक-दूसरे का साथ देना दुनिया को उनके बीच कुछ होने का सबूत देता है. विनोद मेहरा और रेखा एक दूसरे के प्रेम में इतना खो चुके थे कि उन्हें दुनिया जहां की कोई खबर ही नहीं थी. लेकिन विनोद की मां को रेखा एक बहू के तौर पर पसंद नहीं थीं. इसके बाद जब रेखा ने विनोद मेहरा से मां और प्यार में से किसी एक को चुनने को कहा तो विनोद मेहरा ने मां को चुनना बेहतर समझा.


Read: Astrological Details of Vinod Mehra


Rekha Rekha’s Affair with Amitabh Bachchan- रेखा और अमिताभ: कहते हैं सच्चा प्यार आपकी जिंदगी बना देता है. शायद रेखा की जिंदगी में भी कुछ ऐसा ही हुआ. रेखा की जिंदगी के बाकी प्यार भरे नगमों ने जहां उन्हें दर्द के सिवाय कुछ नहीं दिया तो वहीं अमिताभ के साथ उनके अफेयर ने उनकी जिंदगी बना दी. अमिताभ तो रेखा के प्यार में पागल थे लेकिन रेखा ने भी खुद को अमिताभ बच्चन के प्यार में पूरी तरह बदल दिया था.


Read: अमिताभ और रेखा को आज भी वो रात याद है


अमिताभ रेखा के लिए पारस साबित हुए थे. कभी मोटी और सांवली सी दिखने वाली रेखा अमिताभ के प्यार में बॉलिवुड की सबसे सुंदर और सेक्सी अभिनेत्री के तौर पर उभरीं. अमिताभ पर अपने हुस्न का जादू चलवाने के लिए रेखा ने खुद को पूरी तरह बदल लिया था.


अमिताभ और रेखा की केमिस्ट्री में नौ में से पांच फिल्में बॉक्स आफिस पर हिट रहीं. कुली फिल्म की शूटिंग के दौरान हुए हादसे के बाद अमिताभ रेखा से अलग हो गए थे. सुहाग, मि. नटवरलाल, गंगा की सौगंध, नमक हराम, खून पसीना सहित कई फिल्मों की सफलता के साथ इस जोड़ी ने बुलंदी का वह शिखर छुआ, जिसे आज भी लोकप्रियता का इतिहास माना जाता है.


Read – इन आंखों की मस्ती के मस्तानें हजारों हैं !!!


इस जोड़ी का शिखर रही यश चोपड़ा की फिल्म सिलसिला, जिसमें अमिताभ के साथ रेखा और जया बच्चन का त्रिकोण था. फिल्म में जया ने अमिताभ की पत्नी और रेखा ने प्रेमिका का रोल किया था. यही वजह है कि इस फिल्म को बच्चन की निजी जिंदगी से जोड़कर देखा गया और इस जोड़ी के आपसी रिश्तों को लेकर चर्चाओं का बाजार आज भी बुलंद रहता है. वर्ष 1981 में प्रदर्शित यश चोपड़ा की सिलसिला में यह जोड़ी आखिरी बार परदे पर नजर आई थी. इस जोड़ी के दीवाने तो आज भी उम्मीद लगाए बैठे हैं कि यह जोड़ी एक बार फिर सफलता के इतिहास को दोहराए. इसमें कोई शक नहीं है कि जिस दिन अमिताभ-रेखा एक फिल्म में साथ काम करने के लिए राजी हो गए, वह फिल्म दर्शकों के हुजूम को थिएटरों में ले आएगी.


Rekha Married with Mukesh Agrawal: रेखा की जिंदगी का एक अहम किस्सा बिजनेस मैन मुकेश अग्रवाल का भी है जिन्होंने रेखा से शादी की लेकिन शादी के एक साल बाद ही उन्होंने आत्महत्या कर ली. यह शायद रेखा की जिंदगी में तन्हाई का संकेतक था.


जिंदगी के सफर में यूं तो सभी को हमसफर मिले. रेखा को भी कई मिले लेकिन कोई ऐसा हमसफर नहीं मिला जिसके सहारे रेखा अपनी पूरी जिंदगी जी सकें. रेखा को हमेशा एक प्यार की जरूरत थी जो उन्हें संभाल सके जिसके साथ वह घर बसा सकें लेकिन ऐसा हो ना सका. कहा जाता है कि धर्मेन्द्र और हेमा मालिनी की शादी के समय रेखा ने सोचा कि जब हेमा जी धर्मेन्द्र से शादी कर सकती हैं तो क्यूं ना वह भी अमिताभ बच्चन से उनकी शादी के बावजूद शादी कर लें लेकिन ऐसा हो ना सका. आज रेखा अकेली हैं और उनसे प्यार की कसमें खाने वाले अधिकतर लोगों ने अपना घर बसा रखा है.


Read more

Profile of Rekha in Hindi

आज भी एक-दूसरे की आंखों को पढ़ते हैं रेखा और अमिताभ

इस बार भी किस्मत ने किया नामंजूर अमिताभ-रेखा का मिलन


Post Your Comment on: रेखा की कौन सी फिल्म आपको सबसे ज्यादा पसंद है?


Tag:



Tags:                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

4 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

rDnvBXMoDpKgkn के द्वारा
September 1, 2017

63111 656796I got what you intend,bookmarked , really decent web site. 787555

रमेश चन्द्र सारस्वत के द्वारा
January 15, 2014

Rekha Married with Mukesh Agrawal: रेखा की जिंदगी का एक अहम किस्सा बिजनेस मैन मुकेश अग्रवाल का भी है जिन्होंने रेखा से शादी की लेकिन शादी के एक साल बाद ही उन्होंने आत्महत्या कर ली ??? Why कारण जानबूझकर नहीं लिखा या मालूम नहीं ….. बोलिए … जिनको सम्मानित कहकर संबोधित करते हैं, उनमें से कुछ एक को जब हम व्यक्तिगत तौर पर जानते हैं तो बहुत हंसी आती है…. रही बात मेरी हम वो हैं जो आसानी से किसी से भी प्रभावित नहीं होते हैं …कोई भी हमारी बुराई हमारे आगे करे या पीछे हम चुप रहना ही पसंद करते हैं …वजह हमारी नजर में ऐसे लोगों की कोई अहमियत नहीं होती ….Nothing….

pitamberthakwani के द्वारा
October 10, 2012

‘सिलसिला’ और ‘ उमराव जान ‘ इनकी बेहतरीन फ़िल्में है !

Shilpi के द्वारा
October 10, 2012

Silsila


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran