blogid : 3738 postid : 2929

Vishwakarma day : विश्वकर्मा जयंती के खास मंत्र और आरती

Posted On: 17 Sep, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

कहा जाता है कि भगवान विश्वकर्मा ने ही इन्द्रपुरी, यमपुरी, वरुणपुरी, कुबेरपुरी, पाण्डवपुरी, सुदामापुरी, शिवमण्डलपुरी आदि का निर्माण किया था. पुष्पक विमान का निर्माण तथा सभी देवों के भवन और उनके दैनिक उपयोग में आने वाली वस्तुएं भी भगवान विश्रकर्मा द्वारा ही बनाई गई हैं. कर्ण का कुण्डल, विष्णु भगवान का सुदर्शन चक्र, शंकर भगवान का त्रिशूल और यमराज का कालदण्ड इत्यादि वस्तुओं का निर्माण भगवान विश्वकर्मा ने ही किया है.


vishwakarma diwasपूजन विधि

भगवान विश्वकर्मा जी का एक मंत्र है. कहते हैं उस मंत्र के जाप के बिना विश्वकर्मा जी की आरती और पूजन पूरा नहीं माना जाता है.

ओम आधार शक्तपे नम: और ओम् कूमयि नम:; ओम् अनन्तम नम:, पृथिव्यै नम:


भारतीय परमपराओं में भगवान विश्वकर्मा की पूजा और यज्ञ पूरे विधि-विधान से किया जाता है. भगवान विश्वकर्मा जी की पूजन विधि यह है कि यज्ञकर्ता पूरे विश्वास के साथ अपनी पत्नी सहित पूजा स्थान पर बैठे. इसके बाद विष्णु भगवान का ध्यान करे और फिर बाद में हाथ में पुष्प, अक्षत लेकर – ओम आधार शक्तपे नम: और ओम् कूमयि नम:; ओम् अनन्तम नम:, पृथिव्यै नम: ऐसा कहकर चारो ओर अक्षत छिड़के और पीली सरसो लेकर चारो दिशाओं को बंद कर दे. अपने आप को रक्षासूत्र बांधे एवं पत्नी को भी बांधे और साथ ही पुष्प जलपात्र में छोड़े. इसके बाद हृदय में भगवान विश्वकर्मा का ध्यान करे.


Read: Vishwakarma day special


पूरे विश्वास के साथ रक्षादीप जलाये, जलद्रव्य के साथ पुष्प एवं सुपारी लेकर संकल्प करे. शुद्ध भूमि पर अष्टदल कमल बनाए. उस स्थान पर सप्त धान्य रखे और उस पर मिट्टी और तांबे का जल डाले. इसके बाद पंचपल्लव, सप्त मृन्तिका, सुपारी, दक्षिणा कलश में डालकर कपड़े से कलश का आच्छादन करे. चावल से भरा पात्र समर्पित कर ऊपर विश्वकर्मा बाबा की मूर्ति स्थापित करे और वरुण देव का आह्वान करे. भगवान विश्वकर्मा जी को पूरे विश्वास के साथ पुष्प चढ़ाकर कहना चाहि – ‘हे विश्वकर्मा जी, इस मूर्ति में विराजिए और मेरी पूजा स्वीकार कीजिए. इस प्रकार पूजन के बाद विविध प्रकार के औजारों और यंत्रों आदि की पूजा कर हवन यज्ञ करना होता है.

आरती श्री विश्वकर्मा जी की

हम सब उतारे आरती तुम्हारी हे, विश्वकर्मा, हे विश्वकर्मा

युग-युग से हम हैं तेरे पुजारी, हे विश्वकर्मा…..

मूढ़ अज्ञानी नादान हम हैं, पूजा विधि से अनजान हम हैं.

भक्ति का चाहते वरदान हम हैं, हे विश्वकर्मा……

निर्बल हैं तुझते बल मांगते हैं, करुणा का प्यास से जल मांगते हैं.

श्रद्धा का प्रभु जी फ़ल मांगते हैं, हे विश्वकर्मा……..

चरणों से हमको लगाये ही रखना, छाया में अपने छुपाये ही रखना.

धर्म का योगी बनाये ही रखना, हे विश्वकर्मा…..

सृष्टि में तेरा हे राज बाबा, भक्तों की रखना तुम राज बाबा.

धरना किसी का मोहताज बाबा, हे विश्वकर्मा…..

धन, वैभव, सुख-शान्ति देना, भय, जन-जंजाल से मुक्ति देना.

संकट से लड़ने की शक्ति देना, हे विश्वकर्मा…….

तुम विश्वपालक, तुम विश्वकर्ता, तुम विश्वव्यापक तुम कष्ट हर्ता.

तुम ज्ञानदानी भण्ड़ार भर्ता, हे विश्वकर्मा…..


Read: Vishwakarma day history


Tags: Vishwakarma day 2012, Vishwakarma day puja, aarti Vishwakarma, Vishwakarma puja mantra in Hindi, Vishwakarma puja vidhi hindi, Vishwakarma day in hindi, Vishwakarma – Hindu God of Architecture,विश्वकर्मा जयंती ,विश्वकर्मा आरती, विश्वकर्मा पूजन विधि



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran