blogid : 3738 postid : 2893

हिन्दी दिवस विशेषांक: क्यों राष्ट्रभाषा नहीं बन पा रही है हिंदी !!

Posted On: 13 Sep, 2012 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Hindi Diwas in India

हर वर्ष 14 सितंबर को देश में हिन्दी दिवस मनाया जाता है. यह मात्र एक दिन नहीं बल्कि यह है अपनी मातृभाषा को सम्मान दिलाने का दिन. उस भाषा को सम्मान दिलाने का जिसे लगभग तीन चौथाई हिन्दुस्तान समझता है, जिस भाषा ने देश को स्वतंत्रता दिलाने में अहम भूमिका निभाई. उस हिन्दी भाषा के नाम यह दिन समर्पित है जिस हिन्दी ने हमें एक-दूसरे से जुड़ने का साधन प्रदान किया. लेकिन क्या हिन्दी मर चुकी है या यह इतने खतरे में है कि हमें इसके लिए एक विशेष दिन समर्पित करना पड़ रहा है?

Read: Hindi Diwas History


Hindi DiwasWhy is Hindi Diwas Celebrated

आज “हिन्दी दिवस” जैसा दिन मात्र एक औपचारिकता बन कर रह गया है. लगता है जैसे लोग गुम हो चुकी अपनी मातृभाषा के प्रति श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं वरना क्या कभी आपने चीनी दिवस या फ्रेंच दिवस या अंग्रेजी दिवस के बारे में सुना है. हिन्दी दिवस मनाने का अर्थ है गुम हो रही हिन्दी को बचाने के लिए एक प्रयास.


Hindi: Language of India

हिन्दी हमारी मातृभाषा है. जब बच्चा पैदा होता है तो वह पेट से ही भाषा सीख कर नहीं आता. भाषा का पहला ज्ञान उसे आसपास सुनाई देनी वाली आवाजों से प्राप्त होता है और भारत में अधिकतर घरों में बोलचाल की भाषा हिन्दी ही है. ऐसे में भारतीय बच्चे हिन्दी को आसानी से समझ लेते हैं.


उस छोटे बच्चे को सभी घर में तो हिन्दी में बात करके समझाते और सिखाते हैं लेकिन जैसे ही वह तीन या चार साल का होता है उसे प्ले स्कूल या नर्सरी में भेज दिया जाता है और यहीं से शुरू होती है अंग्रेजी भाषा की पढ़ाई. बचपन से हिन्दी सुनने वाले बच्चे के कोमल दिमाग पर अंग्रेजी भाषा सीखने का दबाव डाला जाता है. पहली और दूसरी कक्षा तक आते-आते तो कई स्कूलों में शिक्षकगण बच्चे को समझाने के लिए भी अंग्रेजी भाषा का ही इस्तेमाल करते हैं. अंग्रेजी को स्कूलों में इस तरह पढ़ाया जाता है जैसे यह हमारी राष्ट्रभाषा हो और यही हमें दाना-पानी देगी.

Read: Career in Data Entry Operator


Hindi Divasअंग्रेजी बने बॉस, हिन्दी झेले गरीबी

वहीं दूसरी ओर जिन बच्चों को अंग्रेजी सीखने में दिक्कत आती है और वह इसमें कमजोर रह जाते हैं उन्हें गंवार समझा जाता है. हालात तो यह है कि आज कॉरपोरेट और व्यापार श्रेणी में लोग हिन्दी बोलने वाले को गंवार समझते हैं. एक कंप्यूटर प्रोग्रामर को चाहे कितनी ही अच्छी कोडिंग और प्रोग्रामिंग आती हो लेकिन अगर उसकी अंग्रेजी सही नहीं है तो उसे दोयम दर्जे का माना जाता है.


हिन्दी की हालत

आज देश में हिन्दी के हजारों न्यूज चैनल और अखबार आते हैं लेकिन जब बात प्रतिष्ठित मीडिया संस्थान की होती है तो उनमें अव्वल दर्जे पर अंग्रेजी चैनलों को रखा जाता है. बच्चों को अंग्रेजी का विशेष ज्ञान दिलाने के लिए अंग्रेजी अखबारों को स्कूलों में बंटवाया जाता है लेकिन क्या आपने कभी हिन्दी अखबारों को स्कूलों में बंटते हुए देखा है.


आज जब युवा पढ़ाई पूरी करके इंटरव्यू में जाते हैं तो अकसर उनसे एक ही सवाल किया जाता है कि क्या आपको अंग्रेजी आती है? बहुत कम जगह हैं जहां लोग हिन्दी के ज्ञान की बात करते हैं.


बात सिर्फ शैक्षिक संस्थानों तक सीमित नहीं है. जानकारों की नजर में हिन्दी की बर्बादी में सबसे अहम रोल हमारी संसद का है. भारत आजाद हुआ तब हिन्दी को राष्ट्रभाषा बनाने की आवाजें उठी लेकिन इसे यह दर्जा नहीं दिया गया बल्कि इसे मात्र राजभाषा बना दिया गया. राजभाषा अधिनियिम की धारा 3 [3] के तहत यह कहा गया कि सभी सरकारी दस्तावेज और निर्णय अंग्रेजी में लिखे जाएंगे और साथ ही उन्हें हिन्दी में अनुवादित कर दिया जाएगा. जबकि होना यह चाहिए था कि सभी सरकारी आदेश और कानून हिन्दी में ही लिखे जाने चाहिए थे और जरूरत होती तो उन्हें अंग्रेजी में बदला जाता.


सरकार को यह समझने की जरूरत है हिन्दी भाषा सबको आपस में जोड़ने वाली भाषा है तथा इसका प्रयोग करना हमारा संवैधानिक एवं नैतिक दायित्व भी है. अगर आज हमने हिन्दी को उपेक्षित करना शुरू किया तो कहीं एक दिन ऐसा ना हो कि इसका वजूद ही खत्म हो जाए. समाज में इस बदलाव की जरूरत सर्वप्रथम स्कूलों और शैक्षिक संस्थानों से होनी चाहिए. साथ ही देश की संसद को भी मात्र हिन्दी पखवाड़े में मातृभाषा का सम्मान नहीं बल्कि हर दिन इसे ही व्यवहारिक और कार्यालय की भाषा बनानी चाहिए.

Read: हिंदी भाषा


Post Your Comments on: क्या हिन्दी की बर्बादी में हम समान रूप से भागीदार हैं?


Tag: Hindi Diwas, hindi diwas essay in hindi, Hindi Divas, हिंदी दिवस विशेषांक, Hindi Poem on Hindi Diwas, Why is Hindi divas celebrated, Hindi Diwas (HindiDiwas)


JOIN US ON FACEBOOK



Tags:                   

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (40 votes, average: 4.33 out of 5)
Loading ... Loading ...

12 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

PRERNA BISHT के द्वारा
September 9, 2017

nice

aanish के द्वारा
September 4, 2016

बहुत खूब -मददगार धन्यवाद………………………..

sandeep tirkey के द्वारा
September 15, 2014

hindi hindustaniyo ka or english indains ka yahi hoga or bharat piche rahe ga education v aalg aalg . bharat wasi ho to avi v time h ras te pr azao nhi to fir ……………….

Pankaj Jhunjhunu के द्वारा
September 13, 2014

हिन्दी का सम्मान करो, यह देश का मान है

shantanu gawali के द्वारा
September 12, 2014

हर वर्ष 14 सितंबर को देश में हिन्दी दिवस मनाया जाता है. यह मात्र एक दिन नहीं बल्कि यह है अपनी मातृभाषा को सम्मान दिलाने का दिन. उस भाषा को सम्मान दिलाने का जिसे लगभग तीन चौथाई हिन्दुस्तान समझता है, जिस भाषा ने देश को स्वतंत्रता दिलाने में अहम भूमिका निभाई. उस हिन्दी भाषा के नाम यह दिन समर्पित है जिस हिन्दी ने हमें एक-दूसरे से जुड़ने का साधन प्रदान किया. लेकिन क्या हिन्दी मर चुकी है या यह इतने खतरे में है कि हमें इसके लिए एक विशेष दिन समर्पित करना पड़ रहा है?

umesh chaudhary के द्वारा
September 12, 2014

I like this very much keepn it up

Shreyansh Jain के द्वारा
September 8, 2014

i liked this very much fabulious job KEEP IT UP

Archit patel के द्वारा
January 7, 2014

its faboluse.

Dr.Ashok Kumar Tiwari के द्वारा
August 31, 2013

हिंदी शिक्षक-शिक्षिकाओं के साथ रिलायंस जामनगर (गुजरात) में जानवरों जैसा सलूक….क्योंकि वे राष्ट्रभाषा – हिंदी के हैं …….. मुकेश अम्बानी की पत्नी नीता अम्बानी जिस के0 डी0 अम्बानी विद्या मंदिर स्कूल की चेयरमैन हैं ………….. रिलायंस कम्पनी के के0 डी0 अ‍म्बानी विद्यालय में भी अन्याय चल रहा है, 11-11 साल काम कर चुके स्थाई टीचर्स को निकाला जाता है क्योंकि वे राष्ट्रभाषा हिंदी के हैं, पाकिस्तान से सटे इस सीमावर्ती क्षेत्र में राष्ट्रभाषा – हिंदी वा राष्ट्रीयता का विरोध तथा उसपर ये कहना कि सभी हमारी जेब में हैं रावण की याद ताजा कर देता है अंजाम भी वही होना चाहिए….सैकड़ों पत्र लिखने के बावजूद, राष्ट्रपति – प्रधानमंत्री कार्यालय से आदेश आने के बावजूद भी गुजरात सरकार चुप है ?…….. !!!!! जय हिंद……… ! जयहिंदी……… !!! Contact for Detail- dr.ashokkumartiwari@gmail.com, 9428075674

ashish@smschacha.com के द्वारा
August 16, 2013

Good Article Regarding Hindi

Vikas के द्वारा
November 15, 2012

HINDI ME NAHI LIKH PAA RAHA HOON

सुनिल के द्वारा
September 13, 2012

हिन्दी दिवस अब सिर्फ मात्र औपचारिकता भर रह गई है. इसको क्यूं मनाया जा रहा है कुछ पता नहीं है.


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran