ऊर्जा बचत दिवस

Posted On: 14 Dec, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

आए दिन पेट्रोल और बिजली के बढ़ते दामों ने एक बार फिर हमें सोचने पर विवश कर दिया है कि क्या कल सच में ऐसा दिन आ सकता है जब हमारे बच्चों को यह चीजें नसीब ही नहीं होंगी और बच्चों की तो छोड़ें क्या यह हमारे लिए कल इतनी महंगी होंगी कि हमें इन्हें खरीदने के लिए बैंक से लोन लेना पड़ेगा. अगर हम आज नहीं संभले तो मुमकिन है कल हमें ऐसा दिन देखना ही पड़े.


renewableआज की बचत कल के उत्पादन के बराबर होती है. लेकिन इसके बाद भी लोग आज बिना वजह ऊर्जा का गलत इस्तेमाल करते हैं. अगर छोटे स्तर पर ही देखा जाए तो कई लोग घर से मार्केट जाने के लिए भी बाइक और कार का इस्तेमाल करते हैं जबकि उनके घर से मार्केट का रास्ता बहुत कम होता है. ऐसी स्थिति तो आम है. साथ ही आज के युवा दिन भर इंटरनेट और टीवी के आगे बैठ बिजली का गलत इस्तेमाल करते हैं. हद तो तब हो जाती है जब वह बिना स्विच बंद किए बिजली के उपकरणों को चलता छोड़ आते हैं. ऊर्जा को बर्बाद करने के और भी तरीके हैं.


यह तो वह बाते हैं जिन्हें हम दैनिक जीवन में हमेशा देखते हैं. इसके अलावा भी ऐसे कई उदाहरण हैं जब हम महत्वपूर्ण और अनमोल ऊर्जा को यूं ही बर्बाद कर देते हैं. अगर हम अपनी आदतों और इच्छाओं पर काबू रखें तो इससे ना हमें फायदा होगा बल्कि इससे हमारी भावी पीढ़ी को भी ऊर्जा के लिए किसी और का मुंह देखना नहीं पड़ेगा.


चाहे बात प्राकृतिक संसाधनों की हो या मानव निर्मित संसाधनों की हमें समझना होगा कि कुछ भी हमेशा के लिए नहीं है. हां, अगर हम सौर्य ऊर्जा और पवन ऊर्जा को किसी तरह कम व्यय में इस्तेमाल कर सकते तो यह बहुत बड़ी बात होती पर अभी तक इन संसाधनों को इस्तेमाल करने के लिए हमें अपनी जेब थोड़ी ज्यादा ढीली करनी पड़ती है. लेकिन यह कीमत उस मोल के आगे कुछ नहीं जो हमारी भावी को भुगतनी पड़ सकती है.


ऊर्जा संरक्षण कोई आज का मुद्दा नहीं है. समाज सालों से इस तरह लोगों को जागरुक बनाने पर लगा है पर कहते हैं जागरुकता एक दिन में तो पैदा नहीं हो सकती इसलिए हमें कोशिश करते रहना चाहिए. हो सकता है एक दिन ऐसा आए जब सारा विश्व एक होकर ऊर्जा सरंक्षण की तरफ ध्यान दे.


ऊर्जा संरक्षण के महत्व को देखते हुए ही हर साल 14 दिसंबर को ऊर्जा बचत दिवस मनाया जाता है. इस दिन लोगों को ऊर्जा संरक्षण की दिशा में जागरुक बनाने का काम किया जाता है. जीवनशैली में बदलाव लाकर व ऊर्जा बचत के छोटे-छोटे नुस्खे अपनाकर हम प्रकृति की बहुत मदद कर सकते हैं.


ऊर्जा बचत के कुछ आसान टिप्स

  • हाथ धोते समय या ब्रश करते समय नल को बंद रख कर बहुमूल्य जल को बचा सकते हैं.
  • लंच को एल्यूमीनियम पन्नी और प्लास्टिक आदि में लपेटने की बजाय पुन: उपयोग किए जा सकने वाले डिब्बों में पैक करें.
  • घर से निकलते समय सारी लाइटें और बिजली के उपकरणों के स्विच ऑफ करने की आदत डालें. चार्जर को प्लग से निकालकर अलग करें क्योंकि प्लग में लगे रहने से बिना चार्जिंग के बिजली खपत होती रहती है.
  • पेड़ लगाने के अपने शौक को फिर से जिंदा कीजिए. अपने बच्चों, रिश्तेदारों और जान-पहचान वालों को इसके फायदे बताकर पेड़ लगाने के लिए प्रोत्साहित कर नेक काम कर सकते हैं.
  • छोटी-छोटी दूरी के लिए वाहन न प्रयोग करने की आदत डालें. ऐसा करके न केवल आप पर्यावरण की रक्षा में अपना अहम योगदान करेंगे बल्कि इससे आपकी बचत भी होगी. और पैदल चलने से आपका व्यायाम भी हो जाएगा. इसे कहते हैं आम के आम गुठलियों के दाम.



Tags:       

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (1 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

0 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Similar articles :
Energy Conservation Day: गांधी जी को मालूम था जरूर होगी अनहोनी!

‘देवदास’ की पारो असल जिंदगी में थी इनकी दोस्त, ऐसे लिखी गई उन बदनाम गलियों में घंटों बैठकर ये कहानी

अब तक आपने दिव्या भारती के बारे में जो भी सुना है सच्चाई उससे बिलकुल अलग है, वीडियो देखिए

एक वेश्या की वजह से स्वामी विवेकानंद को मिली नई दिशा

केवल 5 रुपये मासिक आमदनी कमाने वाला यह व्यक्ति कैसे बना भारत का प्रतिष्ठित वैज्ञानिक

एड्स से बचाव के लिए अफ्रीका में किया जाता था किशोरियों से रेप! जानें एड्स से जुड़े ऐसे ही 17 रोचक तथ्य

‘टीचर डे’ स्पेशल: मिलिए उन शिक्षकों से जिन्होंने दुनिया के इन महान लोगों को बनाया

क्या है चिपको आंदोलन के पीछे की कहानी

बेड़ियों में जकड़ कर क्यों पागलखाने पहुंचा दिया गया था बोल्डनेस की मिसाल कायम करने वाली इस अभिनेत्री को?

उस सुंदर मुस्लिम युवती को देखकर शिवाजी ने ऐसा क्या कहा जिसे सुन मराठा सैनिकों को झुकाना पड़ा सिर!

Post a Comment

*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments




अन्य ब्लॉग

latest from jagran