blogid : 3738 postid : 1663

छठ : सूर्य की उपासना का महापर्व

Posted On: 30 Oct, 2011 Others में

  • SocialTwist Tell-a-Friend

भौतिक संसार में सूर्य ही एकमात्र देवता हैं जो प्रत्यक्ष रूप से दिखाई देते हैं. सूर्य ही हमारे जीवन का स्त्रोत हैं. चाहे अपनी रोशनी से हमें जीवन देना हो या हमें भोजन देने वाले पौधों को भोजन देना सूर्य का सम्पूर्ण जगत आभारी है. हम आजीवन उनके उपकारों से लदे रहते हैं. सूर्य अंधकार को विजित कर चराचर जगत को प्रकाशमान करते हैं. इसलिए सूर्य की स्तुति में सबसे बड़ा मंत्र “गायत्री मंत्र” पढ़ा जाता है और उनकी स्तुति का सबसे बड़ा पर्व मनाया जाता है “छठ”.


Chhathदिवाली के ठीक छह दिन बाद मनाए जाने वाले छठ महापर्व का हिंदू धर्म में विशेष स्थान है. अथर्ववेद में भी इस पर्व का उल्लेख है. यह ऐसा पूजा विधान है, जिसे वैज्ञानिक दृष्टि से भी लाभकारी माना गया है. ऐसी मान्यता है कि सच्चे मन से की गई इस पूजा से मानव की मनोकामनाएं पूर्ण हो जाती हैं. माताएं अपने बच्चों व पूरे परिवार की सुख-समृद्धि, शांति व लंबी आयु के लिए व्रत रखती हैं.


यह व्रत काफी कठिन होता है और व्रत संबंधी छोटे-छोटे कार्य के लिए भी विशेष शुद्धता बरती जाती है. लोग इस पर्व को निष्ठा और पवित्रता से मनाते हैं उसका एक प्रमाण यह है कि छ्ठ का प्रसाद बनाने के लिए जिस गेंहू से आटा बनाया जाता है उसको सुखाते समय घर का कोई न कोई सदस्य उसकी रखवाली करता है ताकि कोई जानवर उसे जूठा न कर दे.


वैज्ञानिक दृष्टि से भी सूर्य की पूजा या जल देना लाभदायक माना जाता है. भारत के अधिकतर राज्यों में लोग मंत्रोच्चारण के साथ प्रतिदिन सूर्य को जल चढाते हैं, लेकिन इस पूजा का विशेष महत्व है. इस व्रत में दो दिन तक निर्जला व्रत रखना होता है.


chhath-puja-sunrise-pictureजगत में उगते सूर्य को पूजने की प्रथा है. डूबते सूर्य को कौन पूछता है पर इस पर्व में प्रथम अर्घ अस्ताचलगामी सूर्य यानि डूबते को ही पड़ता है. इस रूप में यह पर्व सृष्टि-चक्र का प्रतीक भी है. उदय और अस्त दोनों अनिवार्य है. जन्म को उत्सव के रूप में लेते हो तो मृत्यु को भी उसी रूप में गले लगाओ. हर अस्त में उदय छिपा है, हर मृत्यु में नवजीवन. उत्थान और पतन दोनों को समान सम्मान दो क्योंकि पतन ही उत्थान का मार्ग प्रशस्त करेगा. सामान्य मनुष्य जो समझे, पर शास्त्रों ने उगते और डूबते सूर्य दोनों को महत्व दिया है.


पर्यावरण संरक्षण: छठ व्रत शुद्धि और आस्था का महापर्व है. यही एक ऐसा पर्व है, जहां समानता और सद्भाव की अनूठी बानगी देखने को मिलती है. प्रकृति से प्रेम, सूर्य और जल की महत्ता का प्रतीक यह पर्व पर्यावरण संरक्षण का भी संदेश देता है.


Chhat Puja 2011इस पर्व को भगवान सूर्य और परब्रह्मा प्रकृति और उन्हीं के प्रमुख अंश से उत्पन्न षष्ठी देवी की उपासना भी माना जाता है. भगवान सूर्य प्रत्यक्ष देवता हैं, वे संपूर्ण जगत की अंतरात्मा हैं. सर्वत्र व्याप्त हैं और रोज प्रत्यक्ष दर्शन देते हैं. ऐसी मान्यता है कि सूर्योपासना व्रत कर जो भी मन्नतें मांगी जाती हैं, वे पूरी होती हैं और सारे कष्ट दूर होते हैं. पर्व नहाय-खाय से शुरू होता है. दूसरे दिन खरना, इसके बाद अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ व सुबह में उदीयमान सूर्य को अर्घ देकर प्रणाम किया जाता है. इस पर्व को छोडा नहीं जाता. यदि व्रती व्रत करने मे असमर्थ हो जाती है तो इस व्रत को घर की बहू या बेटे करते हैं. इस बार छठ रविवार 30 अक्टूबर को नहाय-खाय से शुरू होगा. दूसरे दिन यानि 31 अक्टूबर को खरना और 01 नवंबर को छठ का महापर्व होगा.


पौराणिक कथा

पौराणिक मान्यता के अनुसार कार्तिक शुक्ल पक्ष की षष्ठी के सूर्यास्त और सप्तमी के सूर्योदय के मध्य वेदमाता गायत्री का जन्म हुआ था. प्रकृति के षष्ठ अंश से उत्पन्न षष्ठी माता बालकों की रक्षा करने वाले विष्णु भगवान द्वारा रची माया हैं. बालक के जन्म के छठे दिन छठी मैया की पूजा-अर्चना की जाती है, जिससे बच्चे के ग्रह-गोचर शांत हो जाएं और जिंदगी मे किसी प्रकार का कष्ट नहीं आए. अत: इस तिथि को षष्ठी देवी का व्रत होने लगा.


ऐसी मान्यता है कि छठ माता भगवान सूर्य की बहन हैं और उन्हीं को खुश करने के लिए महत्वपूर्ण अवयवों में सूर्य व जल की महत्ता को मानते हुए इन्ही को साक्षी मानकर भगवान सूर्य की आराधना करते हुए नदी, तालाब के किनारे छठ पूजा की जाती है.


व्रत करने वाले जल में स्नान कर इन डालों को उठाकर डूबते सूर्य एवं षष्टी माता को अर्घ्य देते हैं. सूर्यास्त के पश्चात लोग अपने अपने घर वापस आ जाते हैं. रात भर जागरण किया जाता है. सप्तमी के दिन सुबह ब्रह्म मुहूर्त में पुन: संध्या काल की तरह डालों में पकवान, नारियल, केला, मिठाई भर कर नदी तट पर लोग जमा होते हैं. व्रत करने वाले सुबह के समय उगते सूर्य को आर्घ्य देते हैं. अंकुरित चना हाथ में लेकर षष्ठी व्रत की कथा कही और सुनी जाती है. कथा के बाद प्रसाद वितरण किया जाता है और फिर सभी अपने अपने घर लौट आते हैं. व्रत करने वाले इस दिन परायण करते हैं.


छठ पूजा का सबसे खास प्रसाद है ठेकुआ. गेहूं के आटे में घी और चीनी मिलाकर बनाया जाने वाला यह प्रसाद बड़ा लोकप्रिय और स्वादिष्ट होता है. चक्की में गेहूं पीसती महिलाओं के कंठ से फूटते छठी मैया को संबोधित गीत श्रम के साथ संगीत के रिश्ते का बखान करती हैं. इस पर्व का बेहद लोकप्रिय लोकगीत है जो कुछ इस प्रकार है:


“काचि ही बांस कै बहिंगी लचकत जाय

भरिहवा जै होउं कवनरम, भार घाटे पहुँचाय

बाटै जै पूछेले बटोहिया ई भार केकरै घरै जाय

आँख तोरे फूटै रे बटोहिया जंगरा लागै तोरे घूम

छठ मईया बड़ी पुण्यात्मा ई भार छठी घाटे जाय”


छठ पर्व की महिमा बेहद अपार है. बिहार समेत देश के कई हिस्सों में आज से शुरू होना वाला यह पर्व बाजार की महंगाई से जरूर प्रभावित होगा लेकिन कम बिलकुल भी नहीं हो सकता.


छठ पर्व से संबंधित अन्य ब्लॉग पढ़ने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

सूर्य व्रत और छठ महापर्व



Tags:                     

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (2 votes, average: 5.00 out of 5)
Loading ... Loading ...

2 प्रतिक्रिया

  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

सौरभ के द्वारा
November 1, 2011

हमारी आस्था और विश्वास को अगर करीब से देखना है तो यह पर्व सबसे बेहतरे एन उदाहरण हैं जहां परपंरा की साफ झलक मिलती है. तीन दिन के कठिन व्रत, दो दिन के निर्जली व्रत के बाद भी लोगों का उत्साह कभी कम नहीं होता. वैसे इस पर्व के बाद नदी नालों के किनारे जो गंदगी इकठ्ठा होती हैं उसके लिए भी लोगों को थोड़ा जागरुक होने की जरूरत है.

dhirendravikramkushwaha के द्वारा
October 30, 2011

बहुत ही सटीक जानकारी 


topic of the week



अन्य ब्लॉग

latest from jagran