Best Web Blogs    English News

facebook connectrss-feed

Special Days

व्रत-त्यौहार, सितारों के जन्म दिन, राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय महत्व के घोषित दिनों पर आधारित ब्लॉग

1,046 Posts

1213 comments

Mahatma Gandhi – अहिंसा और सत्य के पुजारी महात्मा गांधी

पोस्टेड ओन: 2 Oct, 2011 पॉलिटिकल एक्सप्रेस में

mahatma gandhiअहिंसा को अपना धर्म मानने वाले मोहनदास कर्मचंद गांधी (Mohandas Karamchand Gandhi) स्वाधीनता संग्राम के राजनैतिक और आध्यात्मिक नेता थे. सत्याग्रह, अहिंसा और सादगी को ही एक सफल मनुष्य जीवन का मूल मंत्र मानने वाले गांधी जी के इन्हीं आदर्शों से प्रभावित होने के बाद रबिंद्रनाथ टैगोर ने पहली बार उन्हें महात्मा अर्थात महान आत्मा का दर्जा दिया था. गांधी जी ने अपना जीवन सत्य की व्यापक खोज में समर्पित कर दिया था. अपने इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए उन्होंने स्वयं अपनी गलतियों पर प्रयोग करना प्रांरभ किया.  अपने अनुभवों को उन्होंने अपनी आत्मकथा “माई एक्सपेरिमेंट्स विद ट्रुथ” में संकलित किया था. अंग्रेजी शासनकाल में गांधी जी के नेतृत्व में देशभर में महिलाओं के अधिकारों और धार्मिक एवं जातीय एकता को बढ़ावा देने के लिए कई आंदोलन चलाए गए.   उन्होंने अस्पृश्यता को जड़ से समाप्त करने के लिए भी कई यात्राएं की. लेकिन विदेशी शासन से मुक्ति दिला भारत की जनता को आजाद कराना ही महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) का सबसे प्रमुख लक्ष्य था. गांधी जी ने ब्रिटिश सरकार द्वारा भारतीयों पर लगाए गए नमक कर के विरोध में 1930 में दांडी मार्च और 1942 में  भारत छोड़ो आंदोलन में भारतीय स्वतंत्रा सेनानियों का नेतृत्व कर प्रसिद्धि प्राप्त की.


महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) का जीवन परिचय


महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के नाम से लोकप्रिय मोहनदास कर्मचंद गांधी का जन्म 2 अक्टूबर, 1869 को पोरबंदर गुजरात में हुआ था. पोरबंदर उस समय ब्रिटिश शासन के अंतर्गत बंबई प्रेसिडेंसी का एक भाग था. उनके पैतृक घर को आज कीर्ति मंदिर के नाम से जाना जाता है. महात्मा गांधी के पिता कर्मचंद गांधी पोरबंदर राज्य के दीवान थे. उस समय समाज में बाल विवाह का प्रचलन था. इसी प्रथा का अनुसरण करते हुए बाल्यावस्था में ही महात्मा गांधी का विवाह कस्तूरबा गांधी से संपन्न हुआ था. कस्तूरबा गांधी को महात्मा गांधी के अनुयायी और जनता “बा” के नाम से पुकारती थी. जब महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) पंद्रह वर्ष के थे तब उनकी पहली संतान का जन्म हुआ. लेकिन कुछ ही दिनों में उसकी मृत्यु हो गई. इस घटना के एक वर्ष के भीतर ही मोहनदास कर्मचंद के पिता का भी निधन हो गया था. इसके बाद कस्तूरबा गांधी और महात्मा गांधी के चार पुत्र हुए. एक औसत विद्यार्थी के तौर पर महात्मा गांधी ने पोरबंदर से प्राथमिक और राजकोट से हाई स्कूल की परीक्षा उत्तीर्ण की थी. मोहनदास कर्मचंद का परिवार उन्हें बैरिस्टर बनाना चाहता था. लेकिन वह पढ़ाई में ज्यादा रुचि नहीं रखते थे. इसीलिए कई परेशानियों के बाद उन्होंने भावनगर स्थित सामलदास कॉलेज से मैट्रिक की परीक्षा पास की. 4 सितंबर, 1888 को गांधी जी लंदन स्थित यूनिवर्सिटी कॉलेज में कानून की पढ़ाई करने और बैरिस्टर की ट्रेनिंग लेने के लिए इंगलैंड चले गए. लंदन में रहने के दौरान महात्मा गांधी ने अपने पहनावे और बोलचाल में विदेशी संस्कृति को ग्रहण कर लिया था लेकिन खान-पान के मामले में वह शुद्ध शाकाहारी ही थे. किंतु जल्द ही उन्हें अपनी माता के गुजर जाने का समाचार प्राप्त हुआ. उन्हें वापस भारत आना पड़ा.


Read: ‘आप’ का एक महीने का हिसाब ?


दक्षिण अफ्रीका में नागरिक अधिकार आंदोलन (1893-1914)

वर्ष 1893 मेंमहात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) ने दक्षिण अफ्रीका के औपनिवेशिक क्षेत्र नटाल स्थित एक भारतीय फर्म, दादा अब्दुल्ला एंड कंपनी में काम करने का एक वर्ष का करार किया. दक्षिण अफ्रीका में गांधी जी भी भारतीयों के साथ होते भेदभाव के शिकार हुए. उन्हें ट्रेन का फर्स्ट क्लास टिकट होने के बावजूद थर्ड क्लास में यात्रा करने को कहा गया और ऐसा ना करने पर उन्हें चलती ट्रेन से धक्का दे दिया गया. दक्षिण अफ्रीका में रहते हुए महात्मा गांधी ने रंग भेद की नीति के खिलाफ भी कई आंदोलन किए.


mahatma gandhi 2भारतीय स्वतंत्रता संग्राम (1915-1945)

वर्ष 1915 में भारत लौटने के पश्चात महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) प्रतिष्ठित कांग्रेसी नेता गोपाल कृष्ण गोखले के संपर्क में आए. वह भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस में आम जनता के हितों को लेकर अपनी आवाज उठाते थे. वर्ष 1917 और 1918 में गांधी जी ने खाद्य वस्तुओं की अपेक्षा नील और गैर खाद्य वस्तुओं की खेती के विरोध में चंपारन और खेड़ा सत्याग्रह किया. इसके बाद गांधी जी ने अपने अनुयायियों समेत देशभर के लोगों को एकत्र कर अहिंसा पर बल देते हुए असहयोग आंदोलन की शुरूआत की. उन्होंने भारतीय नागरिकों को विदेशी वस्तुओं का बहिष्कार करने और स्वदेशी चीजों को अपनाने पर जोर दिया. 1920 के दशक में गांधी जी की लोकप्रियता चरम पर थी. वर्ष 1930 में उन्होंने अंग्रेजों द्वारा बनाए गए नमक कानून को तोड़ने के लिए डांडी यात्रा भी की.



Read: कभी बोलते समय गांधी जी की टांगें कांप गई थीं



भारत विभाजन

जब कांग्रेस अंग्रेजी सरकार को भारत छोड़कर जाने के लिए विवश कर रही थी, तब मुसलमानों ने अपने लिए एक अलग राष्ट्र की मांग रख दी. 14 अगस्त की रात्रि को पाकिस्तान का निर्माण हुआ और 15 अगस्त की मध्य रात्रि को भारतीय स्वाधीनता की घोषणा हुई.


Read: Indira Gandhi in Hindi


गांधी जी की हत्या

आजादी के एक वर्ष के भीतर ही 30 जनवरी, 1948 को प्रार्थना सभा के दौरान नाथू राम गोड्से नाम के एक हिंदू राष्ट्रवादी ने गोली मारकर महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) की हत्या कर दी.


जन-मानस को अहिंसा का रास्ता दिखाने वाले गांधी जी एक अच्छे लेखक भी थे. कई दशकों तक महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) हरिजन नामक समाचार पत्र का गुजराती, हिंदी और अंग्रेजी भाषा में संपादन करते रहे. अपनी आत्मकथा माई एक्सपेरिमेंट्स विद ट्रुथ के अलावा महात्मा गांधी ने कई किताबें लिखी हैं. गांधी जी के समूचे साहित्यिक कार्य को भारतीय सरकार द्वारा द कलेक्टेड वर्क्स ऑफ महात्मा गांधी के अंतर्गत प्रकाशित किया गया है. प्रत्येक वर्ष 2 अक्टूबर को उनके जन्म दिवस को गांधी जयंती और अहिंसा दिवस के रूप में पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है.


Also Read:

गर गांधी जी चाहते तो…..

जब महात्मा गांधी के अहिंसावादी होने पर लग गया था प्रश्नचिह्न

प्रणयोत्सव पर्व: उस अधूरे प्रेम पत्र को करें पूरा



Tags:                                                         

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (171 votes, average: 4.23 out of 5)
Loading ... Loading ...

30 प्रतिक्रिया

  • Share this pageFacebook0Google+0Twitter1LinkedIn0
  • SocialTwist Tell-a-Friend

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

avtar के द्वारा
October 20, 2014

बहूत 

Traling के द्वारा
October 3, 2014

सत्यमेव विजयते इस the message Bapu gave to the world ………. The ultimate person for my motherlands freedom……. LORD BLESS HIM!!!! :) ;)

surendra के द्वारा
October 2, 2014

Ghanghi ji is great u respect to bapu….

shankar akkal के द्वारा
October 1, 2014

NICE s\

Dinesh Gautam के द्वारा
August 3, 2014

Goodmornig Gandhi ji.

shruti के द्वारा
July 21, 2014

too gooooood!!!! he’s an admirational personality.

RobertPa के द्वारा
April 20, 2014

Your photos look wonderful !!! my website – http://onlinesmpt200.com

M.JEEVA GEETHA के द्वारा
April 5, 2014

it is very useful & i am doing this as project.

Subhan goury के द्वारा
April 3, 2014

Great

Komal के द्वारा
February 4, 2014

Mahatma Gandhi Is Great…………………………………………………………..?

S. Kumar के द्वारा
January 13, 2014

A Great Freedom Fighter ………………..

Kishan के द्वारा
January 7, 2014

Mahatma gandi is gr8..?

praveen के द्वारा
December 26, 2013

want to like this mahatma gandhi is idel

samir के द्वारा
December 21, 2013

hats of to u mahtma gandhi

nitsi के द्वारा
October 21, 2013

gandhi ji was great………………

CINDERELLA के द्वारा
October 20, 2013

VERY NICE……………………………………………………………

amit kumar meena के द्वारा
October 11, 2013

mahatma gandhe is a god of indian people

hemant gangele के द्वारा
October 10, 2013

mahatma gandhi is all people seen the right

tania के द्वारा
October 2, 2013

improve your spelling……….

AJAY JOSHI के द्वारा
October 2, 2013

ाे, स.,पतचक च., व.कदच नकदवकत ,सचक दतचवलक दजलक तल ,तच दजक दकिवचतव,तच ,कदजकव  कतच ,तचिकवलडजत त ,तच,जलकद्कतच्ल तचलक्लकततच,तच ल,दतचलजदि्ंकचततच जिकदज़कवलस तचॊकवदजकचकतसव दचकव दजवक

Rathore के द्वारा
October 1, 2013

गाँधी जी सच में एक महान व्यक्तित्व के महा पुरुष थे

disha के द्वारा
September 30, 2013

it is too good written about gandhi ji

kuldeep chaudhary के द्वारा
June 4, 2013

I LIKE IT ITS TRUE

niharika gupta के द्वारा
May 3, 2013

yes i liked this essay

amit के द्वारा
April 9, 2013

goog gandhi ji hamare adarniy ………….. thnks

HARSSHITTTTTTTTTTT के द्वारा
January 10, 2013

GOOD ARTICLE

shalu के द्वारा
September 30, 2012

इ ऍम रीड आउट बाबु जी story

leena के द्वारा
July 30, 2012

it is about our father of the nation.i love it.gooooooooooooooooooooooood.

    Dinesh Gautam के द्वारा
    August 3, 2014

    Good man army Gandhi ji.

    pawan kumar के द्वारा
    October 2, 2014

    gandhiji was a real hero he was a pious soul we shoid respect them and follow his rules in our life




अन्य ब्लॉग

  • ज्यादा चर्चित
  • ज्यादा पठित
  • अधि मूल्यित