Best Web Blogs    English News

facebook connectrss-feed

Special Days

व्रत-त्यौहार, सितारों के जन्म दिन, राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय महत्व के घोषित दिनों पर आधारित ब्लॉग

1,045 Posts

1165 comments

महाराणा प्रताप : वीरता के परिचायक

पोस्टेड ओन: 4 Jun, 2011 जनरल डब्बा में

भारतभूमि सदैव से ही महापुरुषों और वीरों की भूमि रही है. यहां गांधी जैसे शांति के दूतों ने जन्म लिया है तो साथ ही ताकत और साहस के परिचायक महाराणा प्रताप (Maharana Pratap), झांसी की रानी, भगतसिंह जैसे लोगों ने भी जन्म लिया है. यह धरती हमेशा से ही अपने वीर सपूतों पर गर्व करती रही है. ऐसे ही एक वीर सपूत थे महाराणा प्रताप (Maharana Pratap). महाराणा प्रताप भारतीय इतिहास में वीरता और राष्ट्रीय स्वाभिमान के सूचक हैं. इतिहास में वीरता और दृढ प्रण के लिये हमेशा ही महाराणा प्रताप का नाम अमर रहा है.


maharana pratapमहाराणा प्रताप (Maharana Pratap) उदयपुर, मेवाड में सिसोदिया राजवंश के राजा थे. एक मान्यता के अनुसार महाराणा प्रताप का जन्म – 9 मई, 1540, राजस्थान, कुम्भलगढ़ में हुआ था. राजस्थान के कुम्भलगढ़ में प्रताप का जन्म महाराणा उदयसिंह एवं माता राणी जीवत कंवर के घर हुआ था.


Read: असफल प्रेमी की भूमिका वाला सफलतम नायक


उन दिनों दिल्ली में सम्राट अकबर का राज्य था जो भारत के सभी राजा-महाराजाओं को अपने अधीन कर मुगल साम्राज्य का ध्वज फहराना चाहता था. मेवाड़ की भूमि को मुगल आधिपत्य से बचाने हेतु महाराणा प्रताप ने प्रतिज्ञा की थी कि जब तक मेवाड़ आजाद नहीं होगा, मैं महलों को छोड़ जंगलों में निवास करूंगा, स्वादिष्ट भोजन को त्याग कंदमूल फलों से ही पेट भरूंगा किन्तु, अकबर का अधिपत्य कभी स्वीकार नहीं करूंगा. 1576 में हल्दीघाटी में महाराणा प्रताप और अकबर के बीच ऐसा युद्ध हुआ जो पूरे विश्व के लिए आज भी एक मिसाल है. अभूतपूर्व वीरता और मेवाड़ी साहस के चलते मुगल सेना के दांत खट्टे कर दिए और सैकड़ों अकबर के सैनिकों को मौत के घाट उतार दिया गया.


Read: घर के शेर बाहर हो रहे हैं ढेर


बालक प्रताप जितने वीर थे उतने ही पितृ भक्त भी थे. पिता राणा उदयसिंह अपने कनिष्ठ पुत्र जगमल को बहुत प्यार करते थे. इसी कारण वे उसे राज्य का उत्ताराधिकारी घोषित करना चाहते थे. महाराणा प्रताप ने पिता के इस निर्णय का तनिक भी विरोध नहीं किया. महाराणा चित्तौड़ छोड़कर वनवास चले गए. जंगल में घूमते घूमते महाराणा प्रताप ने काफी दुख झेले लेकिन पितृभक्ति की चाह में उन्होंने उफ तक नहीं किया. पैसे के अभाव में सेना के टूटते हुए मनोबल को पुनर्जीवित करने के लिए दानवीर भामाशाह ने अपना पूरा खजाना समर्पित कर दिया. तो भी, महाराणा प्रताप ने कहा कि सैन्य आवश्यकताओं के अलावा मुझे आपके खजाने की एक पाई भी नहीं चाहिए.


महाराणा प्रताप (Maharana Pratap) के पास उनका सबसे प्रिय घोड़ा “चेतक” था. हल्दी घाटी के युद्ध में बिना किसी सहायक के प्रताप अपने पराक्रमी चेतक पर सवार हो पहाड़ की ओर चल पड़ा. उसके पीछे दो मुग़ल सैनिक लगे हुए थे, परन्तु चेतक ने प्रताप को बचा लिया. रास्ते में एक पहाड़ी नाला बह रहा था. घायल चेतक फुर्ती से उसे लांघ गया परन्तु मुग़ल उसे पार न कर पाये. चेतक की बहादुरी की गाथाएं आज भी लोग सुनाते हैं.


सम्पूर्ण जीवन युद्ध करके और भयानक कठिनाइयों का सामना करके प्रताप ने जिस तरह से अपना जीवन व्यतीत किया उसकी प्रशंसा इस संसार से मिट न सकेगी.


Read More:

रानी लक्ष्मीबाई: वीरता की अद्भुत मिसाल

कैसे कोई 80 साल की उम्र में वीर योद्धा बन सकता है



Tags: hindi blog   Rajasthan   महाराणा प्रताप   profile of maharana pratap   hindi profile of maharana pratap   image of maharana pratap   jhansi   indian leader   history of india   sisodia   udaipur   horse Chetak  

Rate this Article:

1 Star2 Stars3 Stars4 Stars5 Stars (129 votes, average: 4.07 out of 5)
Loading ... Loading ...

1 प्रतिक्रिया

  • Share this pageFacebook280Google+0Twitter3LinkedIn0
  • SocialTwist Tell-a-Friend

Similar articles :
क्या ‘अल्लाह’ ने उसे अपना पैगंबर बनाकर धरती पर भेजा है… पढ़िए एक ऐसे जीव के बारे में जिसे देखते ही अल्लाह का आभास होता है

बिरसा मुंडा : साहस का एक नाम

ये दुनिया पारलौकिक शक्तियों से घिरी हुई है..किसी भी मोड़ पर अंजान रूहें आपका रास्ता रोक सकती हैं

बड़े-बड़े स्टार्स का ‘सेंस ऑफ ह्यूमर’ भी आपके सामने फीका पड़ सकता है यदि आपके अंदर ये गुण हों…

ऑपरेशन के बाद उसे बस यही खुशी थी कि अब फाइनली वो अपनी पत्नी के नजदीक जा पाएगा…

बेटे की जान बचाने के एवज में चुड़ैलों ने उसे मौत दे दी…..काले जादू की हकीकत से पर्दा उठाती एक कहानी

पत्नी की इच्छा पूरी करने के लिए श्री कृष्ण ने किया इन्द्र के साथ युद्ध जिसका गवाह बना एक पौराणिक वृक्ष….

स्त्रियों से दूर रहने वाले हनुमान को इस मंदिर में स्त्री रूप में पूजा जाता है, जानिए कहां है यह मंदिर और क्या है इसका रहस्य

आपका वजन कम करने का यह तरीका भी हो सकता है बेकार, जानिए क्या है वो उपाय जो करेगा आपकी मदद

जन्म के साथ ही यह मासूम एक ऐसा खौफ अपने साथ लेकर आते हैं जिसे देख आप सहम जाएंगे….जानना चाहते हैं क्या है ये..

Post a Comment

CAPTCHA Image
*

Reset

नवीनतम प्रतिक्रियाएंLatest Comments

kishanlal के द्वारा
June 11, 2014

kahani achi he lekin akshar acha nahi hei




अन्य ब्लॉग

  • ज्यादा चर्चित
  • ज्यादा पठित
  • अधि मूल्यित